गरीब बच्चों को शिक्षा देना ही बिहार के “सुशांत साईं सुन्दरम” का है एकमात्र लक्ष्य, सोच हो तो ऐसी

0
622

हमारे संविधान के मुताबिक सभी बच्चों को साक्षर होने का हक़ है चाहे वो बच्चा गावं का हो, शहर का हो, या किसी कसबे का ही रहने वाला हो, सामान शिक्षा का हक़ सभी को है। आज भी हमारे समाज में काफी ऐसे राज्य हैं जहाँ के गावं में पढ़ने-लिखने की कमी है।

देश के इन्हीं राज्यों में से एक है बिहार, जहाँ के जमुई जिले के गरीब बच्चों को एक मुहीम के तहत मुफ्त शिक्षा दिया जा रहा है। ये मुहीम चलाने वाली संस्था का नाम है “मिलेनियम स्टार फाउंडेशन।” ये संस्था जमुई जिले के गिद्धौर प्रखंड स्थित सेवा गांव में है। इस संस्था में हर रोज पिछले तीन महीने से 250 से ज्यादा गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा प्रदान किया जा रहा है। यहाँ पर गरीब बच्चों को अक्षर ज्ञान के साथ खेल कूद, कराते, संगीत एवं योग का भी ज्ञान इस संस्था की संचालिका अनीता मंडल और उसके सहयोगियों द्वारा दिया जा रहा है।

विगत कुछ दिनों पहले सुशांत साईं सुन्दरम जो मिलेनियम स्टार फाउंडेशन के अध्यक्ष हैं उनके जरिये से बच्चों को मुफ्त में कॉपी और पेंसिल को बांटा गया जब वो जब वो संस्था में निरीक्षण करने पहुंचे। इस मौके पर संस्था की संचालिका अनीता मंडल ने जानकारी देते हुआ कहा कि आज मिलेनियम स्टार संस्था में वो बच्चे भी शिक्षित होने आ रहे हैं जो बच्चे कभी नियमित तौर पर स्कूल नहीं जाना चाहते थे, और आज प्रतिदिन अनुशासन में रहकर पढ़ने ,में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। संस्था की संचालिका ने माता-पिता का आभार व्यक्त करते हुए बताया कि ‘सेवा’ जैसे छोटे से गावं में भी शिक्षा का महत्व समझने लग गए हैं।

संस्था की संचालिका के इसी बात को ध्यान में रखते हुए मिलेनियम स्टार के अध्यक्ष सुशांत ने बताया कि हमारा प्रयास है की सारे बच्चे शिक्षित हो सके। इसके साथ ही वहां मौजूद युवा से आग्रह किया कि अपने प्रतिदिन के कामों से कुछ वक़्त निकालकर निर्धन बच्चों के पढाई पर गौर करें। सुशांत ने वहां की संचालिका और उनके साथियों को शुक्रिया अदा करते हुए बताया कि इस संस्था का नियमित और अच्छे से चलते रहना एक बड़ी जिम्मेदारी है। आज आप सब की परिश्रम के वजह से ही अब यहाँ के बच्चे पढाई में दिलचस्पी लेने लगे है |

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here