सुशांत मामले में CBI का शक गहराया, नीरज और सिद्धार्थ के बयान में अंतर

0
65

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई रोज संदिग्धों से पूछताछ कर रही है. सीबीआई लगातार पिछले पांच दिनों से पूछताछ कर रही है. आज यानी की मंगलवार के दिन सीबीआई की टीम ने एक साथ कई लोगों से पूछताछ की है जिसमें संदीप श्रीधर, सिद्धार्थ पिठानी, नीरज सिंह, रजत मेवाती और केशव से पूछताछ हो रही है. सीबीआई टीम जैसे जैसे लोगों के बयान दर्ज कर रही है सभी के बयान में अंतर सामने आ रहा है. जिसके बाद से सीबीआई का शक और भी गहराता जा रहा है.

सीबीआई 14 जून की रात की पूरी घटना को सुलझाना चाह रही है. इसी बाद से सारे तार एक दूसरे के साथ जूड़ जाएंगे इसीलिए सीबीआई की टीम 14 जून की रात सुशांत के घर पर पास जितने लोग थे उन सभी लोगो का बयान दर्ज कर रही है. उस रात जो लोग वहां मौजूद थे उसमें स्टाफ दीपेश सावंत, केशव, सिद्धार्थ और नीरज थे. सीबीआई टीम के द्वारा लिए गए बयान में सिद्धार्थ और नीरज के बयान में अंतर आ रहा है. जिसके बाद से दोनों को साथ में बैठा कर पूछा गया. इसके बाद दोनों एक दूसरे पर आरोप लगाने लगे. नीरज का कहना है कि 14 जून की सुबह जब सुशांत का दरवाजा नहीं खुला तो सिद्धार्थ ने चाबी वाले को फोन किया था. जबकि सुद्धार्थ का कहना है कि उसने गार्ड को फोन किया था.

नीरज ने यह भी कहा कि दरवाजा खुलने के बाद सिद्धार्थ ने चाबीवाले को वहां से जाने को कहा और इसके बाद वो कमरे में दाखिल हुए. जबकि सिद्धार्थ का कहना है कि चाबी वाला वहां से खुद चला गया था. इन दोनों कीबातों के बाद से सीबीआई की माथापच्ची और बढ़ गई है अगर नीरज कीबात सही है तो इसका मतलब साफ है कि सिद्धार्थ को पहले से पता था कि इस तरह की कोई घटना हो सकती है.

नीरज ने यह भी कहा कि जब 14 जून को लोग उस कमरे में दाखिल हुए तो सुशांत की लाश बेडरूम में पंखे से खिड़की की तरफ मुंह कर के लटकी थी जबकि इसी सवाल के जवाब में सिद्धार्थ पिठानी ने कहा कि लास दीवार की तरफ थी. सीबीआई की टीम ने जब सिद्धार्थ से पूछा कि आपको क्यों लगा कि इस दरवाजे को तोड़ने कीजरूरत है. इस पर नीरज ने कहा कि ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था और वह घबरा गये थे. सीबीआई ने पूछा कि जब आपने इसकी जानकारी सिद्धार्थ पिठानी को दी तो उनका व्यवहार कैसा था. तो उन्होंने कहा कि वे शांत थे. और सामान्य थे. सिद्धार्थ पिठानी ने इसी सवाल के जवाब में कहा कि वह बहुत घबरा गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here