तम्बाकू नशे का कारण,लक्षण और उपचार

0
2136

The center for disease control and prevention के अनुसार दुनिया भर में 6 million से ज्यादा लोगो की मौत तम्बाकू के सेवन से होती है| तम्बाकू मे मुख्य रूप से निकोटिन होता है जो कि डोपामिन के secretion को बढाता है,डोपामिन दिमाग में ख़ुशी और स्नेह वाले area को stimulate करता है| अन्य किसी भी drug की तरह डोपामिन की भी आदत जल्द ही लग जाती है|

नशे का कारण

तम्बाकू के addiction से निकोटिन की इच्छा बढ़ जाती है,जिसके कई negative physiological और psychological effect होते है| एक बार निकोटिन जब blood stream में पहुँच जाता है तब यह 10 सेकंड के भीतर brain तक पहुच सकता है,जिससे तुरंत adrenaline hormone रिलीज़ होता है जो कि body के central nervous system और heart rate को stimulate करता है जिससे blood pressure और respiration भी प्रभावित होता है| निकोटीन से डोपामिन भी बढ़ जाता है जो की ख़ुशी और motivation के लिए प्रयुक्त एक neurotransmitter है| तम्बाकू के लगातार सेवन से इसकी आदत लग जाती है जिससे व्यक्ति को कुछ समय के लिए आनन्द की अनुभूति होती है इसलिए हर परिस्थिति जैसे खाने के बाद,alcohol लेते समय,कॉफ़ी के साथ,गाडी चलते हुए,काम से कुछ देर के लिए break लेने पर,फ़ोन पर बात करते समय,तनाव में,या सुबह उठकर सबसे पहले तम्बालू लेना कब रोज के जीवन में शामिल हो जाता है पता नहीं चलता|

लक्षण

तम्बाकू का एडिक्शन छुपाना अन्य एडिक्शन छुपाने की तुलना में मुश्किल है,क्युकी तम्बाकू legally available हो जाता है,और इसे public में भी खा सकते है,कुछ लोग इसे occasionally खाते है जबकि कुछ को इसका addiction हो जाता है| ऐसे लोगो का मुंह हमेशा लाल रहता है,और तम्बाकू से भरा रहता है,ये जब तम्बाकू छोड़ने की कोशिश भी करते है तब इनके हाथ कांपते है,पसीना आता है,heart rate बढ़ जाती है,और मूड swings के साथ depression के भी रोगी बनने लगते है | तम्बाकू की आदत हो जाने पर वो लोग हर खाने के बाद तम्बाकू लेना पसंद करते है,और 2 -3 घंटे से ज्यादा देर तक तो तम्बाकू से दूर रह ही नहीं पाते है|कुछ लोगो में इसको रोज लेने की आदत होती है वही कुछ लोग सिर्फ तनाव की स्थिति में तम्बाकू का सेवन करते है| addicted लोगो को वहां जाना भी पसंद नहीं होता जहाँ तम्बाकू और smoking पर रोक लगी ही,ये लोग बिना अपनी health की परवाह किये तम्बाकू लेते है|

उपचार

तम्बाकू से छुटकारा पाना कोई कठिन कार्य नहीं है इसके लिए कई तरह की दवाइया और guide line market में available है जो इसके एडिक्शन से मुक्ति दिला सकती है|

  • इसके लिए मेडिसिन दी जाती है,जैसे buropion जो कि निकोटिन की इच्छा को कम करती है और varenicline नाम की दवाई निकोटिन receptor को block करती है,जिससे तम्बाकू खाने पर इसके प्रभाव महसूस नही होते और व्यक्ति खुद ही तम्बाकू छोड़ देता है|
  • इसके अलावा निकोटिन replacement थेरेपी का भी उपयोग किया जाता है, जिसमे रोगी को निकोटिन gum,patches,lozenges,inhalers और nasal spray दिए जाते है,जिससे तम्बाकू छोड़ने के बाद blood में होने वाली निकोटिन की कमी और उसके side effect को रोका जाता है
  • Behavioral treatment भी तम्बाकू के अत्यधिक सेवन से बचाता है,जिसमे तनाव के क्षणों को नोटिस करते है जब तम्बाकू की जरूरत पड़ती है,उसका alternative निकाला जाता है,अपने मित्रो और शुभचिंतको की मदद से इस बीमारी से छुटकारा पाया जाता है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here