मैट्रिक परीक्षा में ड्यूटी नहीं करने वाले शिक्षकों पर होगी कार्रवाई, बिहार सरकार सख्त

0
450

बिहार में आंदोलनरत बिजली कर्मियों और निगमकर्मियों (Corporation personnel) के बाद अब शिक्षक (Teacher) हड़ताल पर जाने के मुड में दिख रहे हैं. नियोजित शिक्षकों (Niyojit Shikshakon) ने 17 फरवरी से हड़ताल पर जाने का मुड बनाया है. आपको बता दें कि 17 फरवरी से ही बिहार बोर्ड मैट्रिक (Bihar Board Matriculation Exam) की परीक्षा शुरु हो रही है. ऐसे में बिहार सरकार ने साफ साफ कहा है कि मैट्रिक परीक्षा में वीक्षण कार्य में योगदान नहीं देने वाले शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज किया जाएगा साथ ही साथ निलंबन की कार्रवाई भी की जाएगी.

नियोजित शिक्षकों के हड़ताल पर जाने को लेकर अपर मुख्य सचिव के निर्देश ने कहा कि मैट्रिक परीक्षा के लिए वीक्षण कार्य में प्रतिनियुक्ति शिक्षक अपना योगदान आवंटित परीक्षा केंद्रों पर देंगे. योगदान देने वाले शिक्षकों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए सभी परीक्षा केंद्रों पुलिस बल की तैनाती की जाएगी. उन्होंने बताया कि परीक्षा का आयोजन और कॉपियों का ससमय मूल्यांकन सरकार की प्राथमिकता है.

अपर मुख्य सचिव ने आगे बोलते हुए कहा कि वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2020 के संचालन और मूल्यांकन के लिए जिलास्तर जिला शिक्षापदाधिकारी, जिला शिक्षापदाधिकारी कार्यालय में एक एक सेल बनाई जाएगी. यह सेल हड़ताली शिक्षकों की मॉनिटरिंग करेगी. इसके साथ ही यह सेल शिक्षा विभाग मुख्यालय एवं समिति मुख्यालय में भी खुलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here