Breaking News : जेडीयू से अलग होने के बाद पहली बार तेजस्वी ने दिल खोल कर की नीतीश की तारीफ

0
1002

जेडीयू के साथ अपनी पार्टी का गठबंधन टूटने और सरकार से बाहर होने के बाद संभवतः पहली बार बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार की तारीफ की है और वो भी सार्वजनिक तौर पर. तेजस्वी यादव के इस नीतीश कुमार के तारीफ वाले इस बयान को लेकर तरह तरह के मायने निकाले जा रहे हैं.

तेजस्वी ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस को देखते हुए राज्य सरकार ने एहतियातन जो कदम उठाए हैं, उनकी प्रशंसा की जानी चाहिए. तेजस्वी ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री महोदय को धन्यवाद देता हूं. तेजस्वी ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री की बैठक में हुए फैसले का सम्मान करते हुए उन्होंने राजगीर में होने वाले राष्ट्रीय जनता दल के सम्मेलन को भी रद्द कर दिया.

nitish tejashwi के लिए इमेज नतीजे

राजनीति के दांव पेंच में माहिर हो चुके तेजस्वी ने नीतीश कुमार की तो तारीफ कर दी लेकिन इसके साथ ही भाजपा कोटे के मंत्रियों पर निशाना साध दिया.

mangal pandey minister के लिए इमेज नतीजे

तेजस्वी ने कहा कि हम विपक्षी दल होकर मुख्यमंत्री के आदेशों का पालन कर रहे हैं लेकिन उनके सहयोगी स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और कृषि मंत्री डाॅ प्रेम कुमार सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. सीएम की ओर से किसी भी तरह के कार्यक्रम, सम्मेलन या बैठक नहीं करने देने के निर्देश देने के बाद भी मंगल पांडेय ने पटना से बाहर पार्टी की बैठक की और डाॅ प्रेम कुमार ने वाॅटर पार्क के उद्घाटन कार्यक्रम में हिस्सा लिया. तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री से इन दोनों मंत्रियों पर कार्रवाई करने की मांग की.

dr prem kumar minister के लिए इमेज नतीजे

कोरोना वायरस पर बिहार सरकार के इंतजामों की सराहना करते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि राज्य सरकार इसे लेकर गंभीरता दिखा रही है. हम सभी लोग इस मुद्दे पर सरकार के साथ हैं. राजगीर के सम्मेलन के साथ साथ बेरोजगारी हटाओ यात्रा भी रद्द कर चुके हैं. इसके लिए जो भी सावधानी बरतनी पड़ेगी, हम उसके लिए तैयार बैठे हैं.

तेजस्वी यादव की इस तरह से सार्वजनिक तौर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ सुनकर भाजपा के कान खड़े होने तय हैं. तेजस्वी ने भी जिस प्रकार से कोरोना वायरस के इंतजामांे के बहाने एक सधे हुए राजनेता की तरह गठबंधन के एक दल की तारीफ और दूसरे दल के मंत्रियों पर निशाना साधा है, ये कई प्रकार के सवालों को जन्म देता है. राजनीति में हर कदम पर एक सवाल खड़े होते हैं और इन सवालों के साथ ही एक जवाब भी होता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here