जगदानंद सिंह: राजद और सीपीआई हो सकते हैं साथ

0
458

बिहार की सियासत में कब क्या हो यह कहना आसान नहीं है. एक पार्टी हो या गठबंधन हो, कुछ भी कभी भी हो सकता है. रह-रहकर यह संदिग्धता राजनीति को और भी दिलचस्प बनाती है. महागठबंधन में शामिल हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी सीएम नीतीश कुमार से बांध कमरे में मुलकात की है। बन कमरे में 50 मिनट के हुए इस बात में 50 तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. इसने मौजूदा समय में राजनीती का रुख ही मोड़ रखा है.

बिहार के राजनीतिक गलियारों में एक बात और भी घमासान मचाये हुए हैं कि क्या तेजस्वी यादव और कन्हैया साथ हो रहे हैं. इस सवाल पर जो जवाब राजद के तरफ से आया है उसने राजनीती में गहरी दिलचस्पी लेने वालों को और भी उलझा दिया है. राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने उस सवाल के जवाब में कहा है कि मैं यह नहीं कह रहा हूँ कि तेजस्वी और कन्हैया साथ चुनाव लड़ेंगे। मैंने कहा है कि राजद और सीपीआई साथ आ सकते हैं. सीपीआई के साथ होने का तो साफ मतलब निकलता है कि कन्हैया कुमार से.

माँझी महागठबंधन से नाराज हैं और उन्होंने बुधवार को प्रेस कांफ्रेस कर कहा है कि राजद ने राज्यसभा चुनाव में गठबंधन का पालन नहीं किया है. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव सीपीआई नेता कन्हैया कुमार की लोकप्रियता से घबरा गए हैं. दोनों पिता-पुत्र कन्हैया कुमार की बढ़ती हुई लोकप्रियता से डर रहे हैं. मांझी के इस बयान पर राजनिति का कुछ और ही रुख हो गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here