वर्चुअल रैली के पहले तेजस्वी का करारा सवाल, इन 10 प्रश्नों से सरकार को घेरा

0
180

बिहार विधानसभा नजदीक आ चुका है। अब तक जहाँ विपक्ष नेता तेजस्वी यादव एक एक सवाल उठाकर हमला बोल रहे थे वहीँ अब ताबरतोड़ 10 सवाल सीएम नीतीश कुमार से कर चुके हैं हैं। बिहार की समस्या के साथ घोटाला और देश में बिहार के प्रोन्नति के मामले पर तेजस्वी ने सवाल उठाया है और बिहार सरकार से जवाब माँगा है। वर्चुअल रैली के पहले तेजस्वी ने ये तीखे सवाल पूछ डाला है। इन सवालों में उन्होंने मौजूदा आये आंकड़ों का भी जिक्र किया है. जो बिहार के स्थिति को दर्शाती है।

घोटाला के मुद्दे पर तेजस्वी ने पूछा है कि पिछले 15 सालों में 20 हजार करोड़ घोटाला हुआ। इसका भरपाई कैसे होगा और 58 घोटालें क्यों हुए ?

विगत 15 वर्ष के आपके कार्यकाल में बिहार में बेरोजगारी, ग़रीबी, भुखमरी और पलायन क्यों बढ़ता गया?
पीएम मोदी ने 1. 65 लाख करोड़ के पैकेज का योजनावार और विभागवार हुए खर्च का ब्योरा सार्वजानिक किया जाये।

बेरोजगारी को लेकर तेजस्वी ने पूछा कि बिहार में इसकी दर 46 . 6 % सबसे अधिक क्यों है ? सरकार ने अब तक इसके लिए कारगर कदम क्यों नहीं उठाये।

तेजस्वी ने ट्विटर एकाउंट पर ट्वीट भी किया है और प्रश्न पूछा है कि बिहार के युवा को इतिहास के बासी पन्ने नहीं बल्कि सुनहरा वर्तमान और भविष्य चाहिए। नीतीश कुमार की रूढ़िवादी, बासी, उबाऊ और 15 वर्षों की घिसी पीटी नकारात्मक बातें की जरुरत नहीं है। उन्होंने अबतक बिहार में उद्द्योग धंधे को क्यों नहीं स्थापित किया है ?

तेजस्वी ने बिहार के विकास और देश में इसके पायदान को लेकर भी सवाल उठाया है। नीति आयोग के सभी सूचकांक पर बिहार पिछले साल दर साल क्यों पिछड़ता जा रहा है। नीति आयोग के रिपोर्ट के अनुसार बिहार में स्वास्थ्य, शिक्षा और सतत विकास की सूचकांक में बिहार पिछड़ा क्यों है। इसके जिम्मेदार कौन है ?

केंद्र सरकार के सभी मानक संस्थाओं जैसे कि एन सी आर बी, नीति आयोग, एन एच एम के मुताबिक बिहार में स्वास्थ्य और कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर क्यों है. इसका दोषी कौन है ?

तेजस्वी यादव ने बिहार के अपराध पर दलित की स्थिति पर भी आंकड़ा बताया है जिसके मुताबिक दलितों पर अत्याचार बढ़ा है ? एन सी आर बी के अनुसार देश भर में दलितों पर सबसे अधिक बिहार में जुल्म हुआ है। इसका आंकड़ा 40.7% है वहीँ राष्ट्रीय औसत 21.8 है।

सीएम नीतीश कुमार साल 2013 , 2017 में बार-बार जनादेश का अपमान क्यों किया ? व्यक्तिगत फायदे के अलावा बिहार को इससे क्या फायदा हुआ है ?

तेजस्वी ने नीतीश सरकार को अपने नियति का खुलासा करने को कहा है। तेजस्वी ने कहा है कि बिहार यह जानना चाहता है कि सरकार के नीति, नियम , नियति, सिंद्धांत और विचार क्या है क्यूंकि बिहार का कोई ऐसा दल नहीं जो अपने हित और स्वार्थ के वजह से समझौता कर विशवासघात नहीं किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here