इस तकनीक के प्रयोग से पार्टनर के इस व्यवहार को करें बाय-बाय, जियें खुशहाल जिंदगी

0
345

कभी-कभी आप जिस इंसान को बेहद चाहते हैं वह आप पर कंट्रोल करने लगता है जिस वजह से रिश्ते में खटास यहां तक बढ़ जाती है कि या तो एक दूसरे से अलग होना पड़ता है या फिर उस रिश्ते के साथ दम घुटने लगता है, लेकिन यदि आप उस रिश्ते के साथ रहकर उसे सुधार सकती हैं या सकते हैं तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता है.

शांत रहें और पार्टनर के कंट्रोलिंग स्वभाव को बदलें ( Keep calm and change the controlling nature of the partner):
जब आपका पार्टनर आप पर कंट्रोल स्थापित करने की कोशिस कर रह है, तब पहले आप शांत रहें। इससे बात उलझेगी नहीं। उसकी बात को धीरज के साथ सुने, तुरंत ही प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं करें।

पार्टनर के साथ लड़ाई नहीं करें (Don’t fight with partner) : जब आपका पार्टनर कुछ ऐसी बात बोलता है जिसपर बहस करने से मामला और भी बिगड़ सकता है तो उस बात पर लम्बा बहस नहीं करें। बात को वहीँ ख़त्म करके वहाँ से चले जाएँ। आपके पार्टनर को भी एहसास होने लगेगा कि आप उसे स्मार्ट तरीके से हैंडल कर रही हैं.

पार्टनर के स्वभाव को बदलने के लिए जल्दबाजी न करें (Do not be quick to change the nature of the partner):
इसे बदलने को लेकर यदि आप जल्दबाजी करेंगे तो मामला बिगड़ सकता है क्यूंकि इस स्वभाव को बढ़ने में सालों लगे हैं तो इसे तुरंत तो ख़त्म नहीं किया जा सकता है। कुछ दिन आपको इसे झेलना ही होगा।

पार्टनर का हर बात नहीं मानें ( Do not accept everything from the partner):
यदि आपको अपने पार्टनर के व्यवहार पर गुस्सा आ रहा है तो इसे कंट्रोल कर विनम्रता से कहें कि इसेक बदले कोई और कार्य करवा लें. यदि आपका पार्टनर आलसी है तो कभी ऑफिस जाने के समय हट जाएँ, धीरे-धीरे उसे भी पता चले जायेगा कि आपके बगैर कोई कार्य नहीं हो सकता है.

पार्टनर को उसकी जिम्मेदारियों का एहसास दिलाएं ( Make partner realize his responsibilities):
अपने पार्टनर को उसकी जिम्मेदारियों का एहसास दिलाएं और विनम्रता तथा प्यार से उसे समझाने की कोशिश करें की आप उसकी गुलाम नहीं हैं. उसकी ख़ुशी के लिए आपके पार्टनर को भी कुछ करना चाहिए।

आत्मनिर्भर बनें ( Be self sufficient):
पार्टनर के कंट्रोलिंग व्यवहार पर लगाम लगाने के लिए आत्मनिर्भर बनना बेहद जरुरी है। ताकि उसे यह यकीन हो सके कि अपनी जरूरतों को पूरा करने में आप उसपर निर्भर नहीं हैं. आपको कुछ ऐसा करना चाहिए कि आप को खुद पर गर्व हो.

आत्मविश्वास बनाये रखें (Be confident): सबसे महत्वपूर्ण यह होता है कि कंट्रोलिंग करने वाला न तो अपनी गलती मानेगा और न ही आपकी बात सुनेगा। यदि आप उसे किसी मसले पर सही राय दे रही हैं और वह मानने से इंकार कर रहा है तो आत्मविश्वास के साथ अपने बात पर डटें रहें, जब आप आत्मविश्वास के साथ रहेंगी तो उसका नकारात्मक विचार कमजोर हो जायेगा।

अपने पार्टनर को अल्टीमेटम दें ( Give your partner an ultimatum) : यदि आपको यह महसूस होता है कि आपकी सारी कोशिशे बेकार हैं तो आप अपने पार्टनर को अल्टीमेटम दें. आपको यह लगता है कि आप उसकी हाथ की कठपुतली बन कर रही गई है और आपको कोई रास्ता नहीं दिखता है और न ही आपको कोई भविष्य दिख पाता है तो उसे साफ कहें कि आप उसे छोड़ कर चली जाएँगी वार्ना अपना आदत सुधारे, हो सकता है वह इसके बाद खुद को बदल लें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here