बिहार में विधानसभा चुनाव के साथ देश में इन 65 सीटों पर होगा चुनाव, BJP के लिए अग्नि परीक्षा

0
76

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के साथ ही देश के कई अन्य राज्यों में भी लोकसभा के साथ ही विधानसभा के उपचुनाव होने हैं ऐसे में चुनाव आयोग ने कमर कस लिया है. और चुनाव समाप्ति के तारीखों की घोषणा कर दी है. आयोग द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि पूरे देश में 29 नवंबर तक चुनाव समाप्त हो जाएंगे. इसका मतलब साफ है कि पूरे देश में विधानसभा चुनाव से लेकर लोकसभा सीटों पर मतदान पूरा करा लिया जाएगा. ऐसे में बिहार और मध्यप्रदेश बीजेपी के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

भारत में इस साल लोकसभा के साथ ही 64 विधानसभी सीटों पर इस साल उपचुनाव होने हैं. इन्हीं चुनावों के बीच में बिहार में विधानसभा का भी चुनाव होना है. उपचुनाव में सबसे महत्वपू्र्ण राज्य है मध्यप्रदेश यहां पर इस बार 27 सीटों के लिए मतदान होना है और शिवराज सिंह चौहान को अपनी सरकार बचाने के लिए 9 सीटें लानी है.

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश में 27 में से 22 सीटें वे सीटें है जो कांग्रेस के विधायकों द्वारा इस्तीफा दे दिया गया है. उसके बाद वे भाजपा में शामिल हो गए. ये सभी 22 सीटें अभी खाली है. उसके बाद जब कमनाथ की सरकार गिर गई और फिर से शिवराज सिंह चौहान की सरकार बनी तो उसमें भी कांग्रेस के तीन विधायक शामिल हो गए. उसके बाद दो सीटों पर विधायकों के निधन के कारण यह खाली है. ऐसे में यह उपचुनाव बीजेपी के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. क्योंकि बिहार में भी बीजेपी जदयू के साथ चुनाव मैदान में है और मध्यप्रदेश में भी उसे 9 सीटें लानी है.

आपको बता दें कि जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव के उपचुनाव होने हैं उनमें उत्तर प्रदेश और गुजरात की आठ-आठ सीटें हैं, इसके बाद मणिपुर की पांच सीटें हैं, असम, झारखंड, केरल, नागालैंड, तमिलनाडु और उड़ीसा की दो-दो सीटें हैं इसके बाद छत्तीसगढ़, हरियाणा, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल की एक-एक सीट पर उपचुनाव होना है. इसके बाद बिहार की बाल्मीकि नगर लोकसभा सीट पर भी उपचुनाव होना है.

बीजेपी के लिए यह उपचुनाव एक टेस्ट के तौर पर देखा जा रहा है. क्योंकि इस उपचुनाव से यह पता चल जाएगा कि कोरोना काल के बाद से देश की स्थिति क्या है. लोग लॉकडाउन और बेरोजगारी के बाद बीजेपी पर कितना भरोसा करते हैं या फिर दूसरी पार्टी की तरफ अपना रुख करते हैं. खैर इस बार होने वाले विधानसभा चुनाव विधानसभा उपचुवान और लोकसभा उपचुनाव में यह साफ हो जाएगा कि बीजेपी अपना वर्चस्व बनाने में कामयाव रही है या फिर से उसे जमीन पर काम करने की जरूरत हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here