कोरोना वायरस को लेकर भारत को मिली बड़ी कामयाबी

0
848

कोरोना वायरस (Corona Virus) विश्व के लगभग सभी देशों में अपनी पहुंच बना लिया है. भारत (India) में कोरोना वायरस को लेकर सभी बड़े आयोजनों को रोका जा चुका है. विदेश से आने और जाने दोनों ही चीजों पर रोक लगा दिया गया है. इस महीने के लास्ट में होने वाले आईपीएल मैच को 15 अप्रैल तक के लिए स्थगित करदिया गया है. इधर भारत में मेडिकल एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन विकसित करने में साल से डेढ़ साल तक का समय लग सकता है.

कोरोना वायरस को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है जिसमें बताया जा रहा है कि संक्रमित मरीजों के इलाज के दौरान सामने आई है. इसमें संकेत मिल रहे हैं कि एचआईवी (HIV) के इलाक में इस्तेमाल होने वाली दवा लोपिनाविर और रिटोनाविर कोरोना के मरीजों पर कारगर साबित हो रही है. इसको लेकर मोदी सरकार ने फर्मा कंपनियों से दोनों दवाइयां का प्रोडक्शन बढ़ाने के निर्देश दिए हैं.

इटली से भारत आई दंपती के इलाज में लोपिनाविर और रिटोनाविर कॉम्बिनेशन का इस्तेमाल किया गया. यह दंपती जयपुर मे कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian Council of Medical Research) के डीजी डॉक्टर बलराम भार्गव (Dr. Balaram Bhargava) ने कहा कि दंपती की सहमति से दोनों दवाई दी गई है. जिसका असर अच्छा हुआ. 14 दिनों बाद अब वे लगभग स्वस्थ हैं.

इधर केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने दवा कंपनियों के साथ लंबी बैठक की. जिसमें कमिटी ऑफ एक्सपर्ट्स ने सिपला, माइलन, ओरोबिंदो और अन्य कंपनियों को ऐंटी एचआईवी दवाइयों का स्टॉक बढ़ाने को कहा है. लोपिनाविर और रिटोनाविर एंटी रेट्रोवायरल दवा है. ये दवाएं वायरस को स्वस्थ कोशिकाओं में जाने से रोकती है. भारत इन दवाओं का निर्यात अफ्रीकी देसों में को करता है.

स्त्रोतः- https://navbharattimes.indiatimes.com/business/business-news/anti-hiv-drugs-lopinavir-and-ritonavir-effective-in-covid-19-coronavirus-patients/articleshow/74605635.cms

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here