हारकर कर भी चर्चा में हैं कोलकाता के सलामी बल्लेबाज वेंकटेश अय्यर

0
1789

विजयादशमी के दिन आईपीएल 2021 में चेन्नई सुपर किंग्स विजयी बनी. दूसरी तरफ कोलकता नाईट राइडर्स तीसरी बार की चैम्पियन बनने से चूंक गयी. कोलकात की टीम अब तक मात्र दो बार ही आईपीएल चैम्पियन का खिताब अपने नाम कर सकी है. तो वहीँ दूसरी तरफ धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई की टीम ने चौथी पर कप पर कब्जा जमाया है. अपनेपने टीम के लिए हर खिलाड़ी उतना ही मेहनत करता है जितना जीतने वाली टीम करती है. मगर कप्तान के डिसीजन मेकिंग पॉवर , खिलाडियों के फॉर्म के साथ ही संभावनाओं के खेल कहा जाने वाले इस क्रिकेट में कब क्या हो जाये , और कब कौन सी टीम बाजी मार ले ,यह कहा नहीं जा सकता. शुक्रवार को ओइन मॉर्गन की कप्तानी वाली टीम KKR भले ही विजेता नहीं बन सकी , मगर टीम के लिए ओपेनिग करने वाले खिलाडी वेंकटेश अय्यर ने हार के बाद भी सबकी जुबान पर छाये रहे. उनकी चर्चा होतो रही. हो भी क्यूँ न, क्यूंकि इसके पीछे भी एक बड़ी वजह है.

कोलकाता नाईट राइडर्स ने टॉस जीतकर गेंदबाजी करने का फैसला लिया था. पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई सुपर किंग्स ने तीन विकेट्स खोकर बीस ओवरों में 192 रन बनाये और KKR को अब 193 का लक्ष्य पाना था. इसके लिए KKR की तरफ से ओपनिंग करने के लिए क्रीज पर वेंकटेश अय्यर और शुभमन गिल की जोड़ी उतरी. दोनों ही सलामी बल्लेबाजों ने पावर प्ले तक 53 रन बनाए. ग्याराह्न्वे ओवर में सबसे पहले वेंकटेश ने 32 गेंदों में ही अर्धशतक जड़ दिया. दोनों ने तब तक 91 रनों की ओपनिंग साझेदारी की. लेकिन तभी शार्दुल की गेंद पर अय्यर कैच आउट हो गए. कम गेंदों में अर्धशतक ठोकने के जूनून से ही पता लग गया था कि अपनी टीम को जिताने के लिए अय्यर पूरे जोश में आये थे. अय्यर भले ही टीम के साथ जीत का जश्न नहीं मना सके ,मगर उनकी पारी की भी जमकर तारीफ हो रही है.

अय्यर फाइनल मैच में ही नहीं, पूरे सीजन में अपना बेहतर प्रदर्शन देते रहे. बात अगर आईपीएल 2021 में अय्यर के आंकड़ों की करे तो उन्होंने दस पारियों में कुल 370 रन बनाये हैं. उनका शानदार पर्फोर्मांस टीम के लिए दिखा और फाइनल तक पहुंचाने में भी मददगार साबित रहा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here