एनडीए या महागठबंधन में जुगाड़ नहीं हुआ तो इन पार्टियों से लड़ सकते हैं चुनाव !

0
335

वैसे तो बिहार विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन में होने की संभावना जताई जा रही है, फिर भी इन दोनों ही गठबंधनों को टक्कर देने के लिए दूसरे दल भी मैदान में उतरेंगे. राजनीति करने वाले हर शख्स की चाहत होती है कि वो विधायक बन कर जनता की सेवा करें.

Cm Nitish Kumar Rjd Leader Tejashwi Yadav Meeting Resolution ...

ये अलग बात है कि विधायक बनते ही सेवा की बजाय मेवा खाने में दिलचस्पी होने लगती है. हर राजनीतिक कार्यकर्ताओं के लिए आमने सामने वाली पार्टी का टिकट जीत की गारंटी की तरह होता है. पार्टी का कैडर होता है और कुछ वोट अपने दम पर मिल जाए तो जीत करीब हो जाता है, पर सीटें तो सिर्फ 243 हैं और दोनों गठबंधनों से दावेदारों की संख्या 10 हजार से भी ज्यादा है.

Gujarat: BJP, Congress slug it out for 4 Rajya Sabha seats ...

अब 05 साल और कौन इंतजार करने जाए ?

दावेदार अनगिनत होते हैं पर टिकट भाग्यशाली को ही मिल सकता है. अब टिकट नहीं मिलने की स्थिति में 05 साल इंतजार कौन करने जाए ? कल क्या हो जाएगा, किसने देखा है, ऐसे में राजनीतिक दल के कार्यकर्ता किसी तीसरी पार्टी का मुंह देखते हैं.

Hyderabad based MIM to contest 32 seats in Bihar assembly polls

 

 

जीत भले ही संभव हो न पाए लेकिन जनता की अदालत में उपस्थिति तो दर्ज हो ही जाती है. जनता के बीच बने रहना ये भी एक बड़ी बात होती है. सम्मानजनक वोट मिल जाए तो और सोने पर सुहागा वाली बात हो जाए.

कुछ पार्टियां है बेहतर विकल्प

Aam Aadmi Party dissolves its overseas outfits with immediate ...

जो लोग किसी तीसरी मजबूत पार्टी में जाकर उसके टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते हैं और सम्मानजनक वोट हासिल करना चाहते हैं, उनके लिए बहुजन समाज पार्टी, जन अधिकार पार्टी, एआईएमआईएम, आम आदमी पार्टी एक बेहतर विकल्प हो सकता है. इन पार्टियों के समर्थक थोड़ी बहुत संख्या में हर विधानसभा क्षेत्र में मिल जाएंगे. दूसरी इन पार्टियों का नाम किसी को बताने की जरुरत नहीं है, ये सभी पार्टियां बिहार के राजनीतिक गलियारे की चर्चित पार्टियां हैं.

हमने जिन पार्टियों का नाम लिया है, उनका संगठन भी हल्के फुल्के रुप में हर जगह मौजूद हैं. इनके नेताओं का कार्यक्रम भी चुनाव प्रचार के लिए मिल जाता है. ऐसे में आप ठीक ठाक तरीके से जनता के बीच उपस्थिति दर्ज कराने के लिए चुनाव लड़ सकते हैं.

Bihar: Pappu Yadav's JAP to contest 100 seats, wants next CM from ...

कुछ और विकल्प भी हैं मौजूद

पुष्पम प्रिया की प्लुरल्स के समर्थक भी तैयार होने लगे हैं. विकास की सोच रखने वाले कई माॅर्डन युवा प्लुरल्स से लगातार जुड़ने लगे हैं तो वहीं भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच के अध्यक्ष आशुतोष कुमार की बनाई हुई नई पार्टी राष्ट्रीय जन जन पार्टी के समर्थक भी राज्य के हर हिस्से में अभी से ही तैयार होने लगे हैं. सवर्ण समाज के बहुत सारे युवा हैं जो आशुतोष कुमार में अपना नेता देखते हैं.

ऐसे में ये दोनों पार्टियां भी चुनावी राजनीति करने वाले राजनीतिक कार्यकर्ताओं के लिहाज से बेहतर विकल्प साबित हो सकती हैं.

बिहार: भूमिहार-ब्राह्मण एकता मंच के ...

तो देर किस बात की, लग जाए जुगाड़ में. किस्मत का क्या पता, जो लड़ेगा वही न जीतेेगा और हारेगा. जो लड़ेगा ही नहीं उसे गाजर मूली की कीमत का क्या अंदाजा लगेगा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here