पूर्व क्रिकेटर ने चयनकर्ताओं पर लगाए गंभीर आरोप

0
585

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने सोमवार को चयनकर्ताओं पर नाराजगी दिखाते हुए कहा कि मैं हमेशा से खिलाड़ियों के हितों की रक्षा का समर्थन करता हूं और उनके बारे में सकारात्मक सोच रखता हूं. आप किसी खिलाड़ी या टीम के बारे में नकारात्मक सोच कर सही नहीं करेंगे. उन्होंने पूर्व खिलाड़ी विजय शंकर के बारे में बताते हुए कहा कि आपके असली चरित्र का तभी पता चलता है जब खिलाड़ी का समय साथ नहीं देता है और आप खिलाड़ियों को प्रेरित करते हैं. बुरे समय में, हर कोई बुरी बात करता है. निश्चित रूप से हमें बेहतर चयनकर्ताओं की जरूरत है.

2011 विश्व कप में मैन ऑफ द सीरीज रहे युवराज सिंह के साथ विजय शंकर को दुवारा भारतीय टीम में चयन नहीं होने पर नाराजगी जाहिर करते हुए पांच सदस्यीय चयन समिति की आलोचना की. युवराज ने कहा कि बीच में आपका विजय शंकर भी था और अब वो गायब है. आप उसे खिलाते हैं और फिर हटा देते हैं. आप ऐसे कैसे खिलाड़ी बनाएंगे? आप खिलाड़ी को 3-4 पारियां देकर नहीं बना सकते. आपको किसी को लंबे समय तक मौका देना होता है.

भारतीय क्रिकेट टीम के बाये हाथ के बल्लेबाज युवराज सिंह ने 10 जून को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी थी. उन्होंने जून 2017 के बाद से भारतीय टीम के लिए कोई क्रिकेट नहीं खेला है. वे मीडिया में लगातार बोलते रहे थे कि टीम में उनकी वापसी होगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

युवराज सिंह के क्रिकेट कैरियर की बात करें तो उन्होंने अपने कैरियर में 304 वनडे मैच खेले है. इसके अलावा उन्होंने भारत के लिए 40 टेस्ट, 58 टी20 मैच खेले हैं. युवराज सिंह के नाम टी 20 मैच में छः गेंद में छः छक्के मारे का रिकार्ड दर्ज है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here