बिहार के इन 18 जिलों में जल्द ही शुरू होगा जमीन का सर्वे

0
499

 

जनवरी के अंतिम सप्ताह तक विशेष सर्वेक्षण एवं बंदोबस्त का कार्य बिहार के 18 जिलों में शुरू होने वाला है। जिसकी तैयारी भू अभिलेख एवं परिमाप निदेशालय ने कर ली है।राज्य मे विशेष सर्वेकण एवं बंदोबस्त का कार्य चरणबद्ध तरीके से पूरा किया जाना है़ पहले चरण मे 20 जिलो मे सर्वे का कार्य शुरू किया गया था़ इन जिलो मे सर्वे का कार्य मंजिल के करीब पहुंचते ही सरकार ने बचे हुए 18 जिलाें पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर, भोजपुर, सारण, दरभंगा, औरंगाबाद, कैमूर, बक्सर, वैशाली, रोहतास, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, समस्तीपुर, सीवान, गोपालगंज व नवादा मे भी विशेष सर्वेक्षण एवं बंदोबस्त शुरू करने की घोषणा कर दी है़. इसको लेकर जनवरी से ही विशेष सर्वे एवं बंदोबस्त का दूसरा चरण शुरू करने के लिए 18 जिलों के डीएम को कहा गया है कि जिले मे बंदोबस्त कार्यालय स्वतंत्र रूप से चार कमरे और एक हॉल वाला बंदोबस्त कार्यालय बना लिया जाए.

 

इसके तहत ही बंदोबस्त कार्यालय को राजस्व संबंधी आंकड़ो को एकत्रित करने का काम शुरू कर दिया गया है़ अंचल में कुल राजस्व ग्रामों की संख्या, कितने गांवों का खतियान उपलब्ध है़ कितने गांव का खतियान उपलब्ध नही है़. इन सब की विस्तृत जानकारी देने की बात कही गई है, साथ ही साथ काम जल्द से जल्द हो इसको लेकर कार्यालय के लिए सामानो की खरीद का काम शुर विशेष सर्वेक्षण एवं बंदोबस्त कार्यालय के लिए कुर्सी, टेबुल, अलमारी आदि की खरीद के लिए मूल् निर्धारण किया गया है. इसके अनुसार सहायक बंदोबस्त पदाधिकारी के लिए आठ हजार रुपये कीमत की टेबुल और पांच हजार रुपये मे कुर्सी खरीदी जायेगी़। जिसको लेकर भी सारी जानकारी साझा कर दी गई है. मिली जानकारी के अनुसार कार्यालय के लिए टेबुल चार हजार तथा कुर्सी तीन हजार रुपये तक की होगी़ कार्यालय में लगाये जाने वाले एक पंखे की कीमत तीन हजार रुपये निर्धारित की गयी है़ 50 हजार की दो अलमारी और तीन हजार रुपये की पांच प्लास्टिक की कुर्सी की खरीद होगी़

 

सबसे ख़ास बात यह है कि इसको लेकर निदेशक जय सिंह ने संबंधित जिलो के डीएम सह बंदोबस्त पदाधिकारियो को भी अपने- अपने जिले मे सर्वे पूर्व होने वाले कार्य शुरू कर देने के निर्देश दिया है. साथ ही शिविर आदि को लेकर तैयारी रखने के दिशा- निर्देश जारी कर दिये दिये है़ं जिन क्षेत्रों मे कार्य किया जाना है, उनके चयन के लिए अंचल एवं गठित होने वाले शिविरो का निर्धारण भू अभिलेख एवं निदेशालय के नोडल पदाधिकारी की सलाह पर किया जायेगा़।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here