Placeholder canvas

दुनिया का रहस्यमयी झील, जिसका पानी है जहरीला, पीते ही हो जाती है मौत

Bihari News

कहते है कि पानी हमारा जीवन दाता है. अगर हम कुछ घंटे बिना पानी के रहते है तो ऐसा लगता है जैसे प्यास से हमारी जान जा रही है. लेकिन क्या आपको पता है कि कुछ स्थानों पर ऐसे भी पानी मौजूद है जिसे पिने से हमारी मौत भी हो सकती है. अब आप सोच रहे होंगे कि पानी पिने से भला किसकी मौत हो सकती है. आज हम आपको इस विडियो में ऐसे ही एक झील के बारे में बतायेंगे , जिसका पानी अगर कोई पीता है तो उसका मौत होना निश्चय है. हम सभी जानते है कि दुनिया में ऐसी कई झीले है जो खुद में कई रहस्यमयी बातों को समेट कर रखी है. ऐसे ही झीलों में से एक है फुन्दुजी झील . बता दे कि यह जेह्रिला झील दक्षिण अफ्रीका के लिंपोपो में स्थित है. यह वही झील है , जिसके पानी को अगर कोई व्यक्ति पीता है तो, उसकी तुरंत मौत हो जाती है.

बता दे कि इस झील से जुड़ी एक पुरानी कहानी है. यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि , बहोत समय पहले यहां एक कोड़ी व्यक्ति आया था. जिसने इस गांव वाले से सहायता मांगी थी. लेकिन यहां के निवासियों ने उसकी किसी प्रकार से सहायता नही की. गांव वाले ने उस कोढ़ी को न खाने को भोजन दिया और न ही रहने को कोई आश्रय. जिसके बाद उस कोड़ी ने उन सभी गांव वालों को श्राप दे दिया और वहां मौजूद झील में डूब गया. इस घटना के घटित होने के बाद यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि इस झील से हर सुबह ढोल के बजने की आवाजें आती है और साथ ही इस झील से जानवरों और लोगों के चीखने की भी आवाजें आती हैं. इसके अलावा भी इस झील को लेकर वहां के लोगों के बीच मान्यता है. उनका कहना है कि इस झील की सुरक्षा यहां के पास के पहाड़ो में रहने वाला विशाल अजगर करता है. बता दे कि यहां के लोग साल में एक बार इस अजगर को खुश करने के लिए आदिवासी नृत्य का भी आयोजन करते है, जिसमें केवल उस गांव की कुमारी लड़कियां नृत्य करती है.

अगर इस झील के निर्माण की बात करे तो , इस झील का निर्माण भू संख्लन की वजह से हुआ था. यह एक ऐसा झील है जिसकी पानी बिलकुल शीशे की तरह साफ़ है लेकिन फिर भी लोगों के लिए जहरीली है. इस बात का पता आज तक नही लगाया जा सका की इस झील के जहरीले होने की आखिर क्या वजह है . कई बार कई लोगों के द्वारा इस झील के राज से पर्दा उठान एकी कोशिश की गयी लेकिन उन सभी को हर बार खाली हाँथ ही लौटना पड़ा. यहां के लोगों का कहना है कि साल 1946 में एक व्यक्ति ने यहां आकर इस झील से थोड़े पानी और कुछ पेड़पौधों को लिया था, ताकि उसकी जांच की जाए. पर जब वह वापस जाने लगा तो वो बारबार रास्ता भटक जा रहा था . ऐअसा उसके साथ कई बार हुआ. लेकिन जैसे ही उसने उस पानी और उस पौधों को फेका तो उसे आसानी से रास्ता मिल गया. लेकिन वहां से लौट जाने के कुछ दिनों बाद ही उसकी मौत हो गयी. वहीं इस झील को लेकर कुछ लोगों का मानना है कि इस झील से कुछ जहरीले गैस निकलते होंगे जिस वजह से अगर कोई व्यक्ति इस झील का पानी पिता है तो, उसकी मौत हो जाती है. हालांकि, अब तक इस बात को लेकर किसी प्रकार की किसी के द्वारा कोई पुष्टि नही की गयी है.

Leave a Comment