Placeholder canvas

ब्रैडमैन और तेंदुलकर के रिकॉर्ड को तोड़ने वाले बल्लेबाज को नहीं मिल रही है टीम इंडिया में जगह!

Bihari News

एक खिलाड़ी के बेहतर खिलाड़ी बनने में एक लंबा संघर्ष करना पड़ता है. और अपने यहां एक कहावत भी है कि संघर्ष जितना बड़ा होगा वह खिलाड़ी उतना ही निखर कर सामने आता है. चक दे क्रिकेट के आज के सेगमेंट चक दे क्लिक्स में आज हम बात करेंगे एक ऐसे खिलाड़ी के बार में जिसके बारे में सुनकर आप भी कहेंगे यह तो कमाल का खिलाड़ी है. इस खिलाड़ी का बचपन गरीबी में बिता लेकिन क्रिकेट के प्रति इसकी दिवानगी कभी कम नहीं हुई. भारतीय टीम में जब छोटे शहरों से निकलकर आए खिलाड़ियों का जिक्र होता है तो उसमें महेंद्र सिंह धोनी का नाम लिया जाता है. जब संघर्ष के दिनों को याद किया जाता है तो विराट कोहली, इरफान पठान, जाहीर खान जैसे खिलाड़ियों का नाम सामने आता हैं इन्होंने अपने अपना बचपन भले ही गरीबी में बिताया लेकिन जब क्रिकेट की दुनिया में आए तो पूरी तरह छा गए. हम हम एक ऐसे ही होनहार खिलाड़ी के बारे में बात करने वाले हैं जिसका नाम हर क्रिकट से प्यार करने वालों के जुवान हैं. हम बात कर रहे हैं फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपनी दमदार बल्लेबाजी के बदौलत डॉन ब्रैडमैन को पिछे छोड़ने वाले सरफराज खान के बारे में…

सरफराज खान को भारतीय टीम में खेलने का मौका भले ही नहीं मिला हो लेकिन उसके बल्ले से रन निकलना कम नहीं हुआ है. भारत समेत विश्व में जो भी क्रिकेट का ज्ञान रखते हैं उन्होंने सरफराज खान का नाम जरूर सुना होगा. सरफराज अपनी बल्लेबाजी से खुब सुर्खियां बटोर रहे हैं. आए दिन मीडिया में उनकी खबरे रहती है लेकिन इसके पीछे उनका पूरा संघर्ष हैं. इंडियन एक्सप्रेस को दिए अपने इंटरव्यू में सरफराज के पिता ने बताया कि हम झुग्गी-झोपड़ियों में रहते थे, शौचालय के लिए कतारों में खड़े रहते थे, जहां मेरे ब्टों को थप्पड़ मारकर पीछे कर दिया जाता था. हमारे पास कुछ भी नहीं था और न ही हम कुछ भी वापस ले जाएँगे. उन्होंने कहा कि सरफराज ने एक बार मुझसे कहा था कि अब्बू ऐसा नहीं हुआ तो क्या होगा. हम ट्रैक-पैंट बेच सकते हैं. सरफराज को क्रिकेट विरासत के रूप में मिली है. उनके पिता नौसाद खान एक क्रिकेट कोच रहे हैं. सरफराज साल 2008 में अपने क्रिकेट कैरियर की शुरुआत किया था. और साल 2009 में हैरिश सील्ड कप में 421 गेंद में 439 रन बनाकर सचिन तेंदुलकर का 45 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया. साल 2013 में जब सरफराज 15 साल के थे तो उन्होंने अंडर-19 भारतीय टीम का हिस्सा रहे और अपने कई धमाकेदार पारियों के बदौलत मीडिया में छा गए. इस सीरीज के क्वाटरफाइनल में उन्होंने 66 बॉल में 101 रन की लाजवाब पारी खेली. पाकिस्तान के साथ खेले गए मुकाबले में उनकी बल्लेबाजी से भारत एक सम्मानजनक स्थिति तक पहुंच पाया जब बात गेंदबाजी की आई तो उन्होने 1 विकेट भी लिया और चार कैच भी लपके और भारत यह मैच लगभग हार ही गया था जिसमें जीत मिल गई. इसके बाद सरफराज हीरो बन गए.

सरफराज को उनकी बल्लेबाजी का इनाम मिला और वे साल 2015 में होने वाले आईपीएल में RCB की तरफ से चुने गए और सबसे कम उम्र में यानी की 17 साल में IPL खेलने वाले खिलाड़ी बन गए. हालांकि इस सीजन में उनका प्रदर्शन सबसे अच्छा नहीं रहा. लेकिन इसके बाद 2016 में हुए अंडर 19 विश्वकप में सरफराज का बल्ला रन का मशीन बन गया. और वे इस विश्वकप में दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गए. IPL 2016 के बाद सरफराज को लेकर बोलते हुए शेनवाटसन ने कहा था कि “वह एक अविश्वसनीय खिलाड़ी है और इसमें कोई संदेह नहीं है कि उसने सभी शॉट्स सही मारने के लिए बहुत मेहनत की है. जिस तरह का कंट्रोल उसका अपने शॉट्स पर है… मैंने इससे पहले उस जैसा यंग टैलेंट नहीं देखा. इससे पता चलता है कि उसने बहुत प्रैक्टिस की है.” इसी सीजन ने हैदराबाद के कप्तान वार्नर ने कहा था कि सरफराज की ताबड़तोड़ बैटिंग ने हमसे हमारा मैच छिन लिया.


24 साल के बल्लेबाज सरफराज खान घरेलू सर्किट पर शानदार परफॉर्म कर रहे हैं. दाएं हाथ का यह बल्लेबाज शेष भारत की तरफ से खेलते हुए ईरानी ट्रॉफी 2022 में 178 गेंदों में 138 रन बनाए जिसमें 20 चौके और 2 छक्के शामिल थे. इसी शतक के साथ उन्होंने दुनिया के महानतम बल्लेबाज सर डॉन ब्रैडमैन को पीछे छोड़ दिया. सरफराज खान ने 43 घरेलू क्रिकेट में सर डॉन ब्रैडमैन से भी ज्यादा रन हो गए हैं. ब्रैंडमैन ने जहां 22 प्रथम श्रेणी पारियों में 2927 रन बनाए हैं तो वहीं सफराज ने 2928 बना डाले हैं. हालांकि सरफराज ने 29 मैचों में इतने रन बनाया है. सरफराज ने 43 पारियों में 81.33 के औसत से रन बनाए हैं. जिसमें उन्होंने 10 शतक और 8 अर्धशतक जड़े हैं. ब्रैडमैन ने 83.63 के रन औसत से रन बनाए हैं और इन्होंने 12 शतक औक 9 अर्धशतक बनाए हैं. सर ब्रैडमैन के बाद सरफराज का रन औसत सबसे बेहतर हैं. हालांकि इससे पहले भारत के दिग्गज बल्लेबाज विजय मर्चेंट का रन औसत 71.64 का था लेकिन सरफराज ने इसे तोड़ते हुए दूसरे स्थान पर पहुंच गए गए हैं.

Leave a Comment