Placeholder canvas

क्रिकेट से बॉलीवुड तक का सफर ! किसकी वजह से खत्म हो गया करियर ?

Bihari News

आज भारत में क्रिकेट सबसे ज्यादा खेला जाने वाला और देखा जाने वाला खेल है लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में यह खेल कैसे आया और किसकी वजह से आया ? आजादी से पहले यह खेल सिर्फ अंग्रेज खेलते थे और भारत के लोग इसे अंग्रेजों का खेल कहते थे. लेकिन गुजरात के नवानगर के राजा श्री रंजीत सिंह विभाजी जडेजा पहले भारतीय थे, जिन्होंने इंग्लैंड में क्रिकेट खेला. इन्हीं के नाम पर भारत में प्रतिष्ठित रणजी ट्रॉफी की शुरुआत हुई, जो आज भी खेली जाती है. इसी टूर्नामेंट में बढ़िया प्रदर्शन कर खिलाड़ी भारतीय टीम में जगह पाते हैं. इन्हीं के परिवार से आए कुमार श्री दलीप सिंह जडेजा जी, जिनके नाम पर भारत में दलीप ट्रॉफी खेली जाती है. और इसी शाही परिवार में 1 फरवरी, 1971 को जन्म हुआ अजय सिंह जडेजा का, अगर आपको जडेजा का पूरा नाम नहीं पता तो हम आपको उनका पूरा नाम बता देते हैं. अजय जडेजा का पूरा नाम है अजय सिंह दौलत सिंह जी जडेजा. श्री रंजीत सिंह जी अजय जडेजा के पिता के दादा जी के भाई थे और दलीप सिंह जी उनके पिता के चाचा थे.

महान क्रिकेटर बनने की चाह

जिसके खून में क्रिकेट था, वो भला क्रिकेट से दूर कैसे रह सकता था. अजय जडेजा भी बचपन से ही एक महान क्रिकेटर बनना चाहते थे. क्रिकेट का जुनून तो था ही बहुत जल्द उन्होंने हरयाणा की रणजी टीम में अपनी जगह बना ली. इसके बाद आया साल 1992 और जडेजा की एंट्री हुई सीधे वर्ल्ड कप में. 1992 वर्ल्ड कप में श्रीलंका के खिलाफ मैच में अजय जडेजा ने अपना इंटरनेशनल डेब्यू किया लेकिन जडेजा को इस मैच में कमाल करने का अवसर नहीं मिला क्योंकि मैच बारिश की वजह से रद्द करना पड़ा. अगला मैच था ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, जिसमें भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा, जडेजा इस मैच में सिर्फ 1 रन बनाकर आउट हो गए. लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ इसके अगले मैच में अजय जडेजा ने पारी की शुरुआत करते हुए 46 रनों की पारी खेलकर अपने काबिलियत की झलक दिखाई.
अजय जडेजा को अपना पहला टेस्ट मैच खेलने के लिए 10 महीनों का समय लग गया. नवंबर, 1992 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अजय जडेजा ने अपना टेस्ट डेब्यू किया.

लेकिन साल 1996 का वर्ल्ड कप अजय जडेजा के लिए काफी अहम साबित हुआ. पाकिस्तान के खिलाफ क्वार्टरफाइनल मैच में अजय जडेजा ने 25 गेंदों में 45 रन बनाकर इतिहास रच दिया. जडेजा की इस पारी को लोग आज भी याद करते हैं. उस मैच में भारत ने पारी के आखिरी 4 ओवरों में 51 रन बनाए थे, जडेजा ने पाकिस्तान के दिग्गज तेज गेंदबाज वकार युनिस के ओवर में 22 रन कूटे थे. जडेजा की इस तूफानी पारी के दम पर भारत ने उस मैच में 8 विकेट खोकर 287 रन बनाए थे. पाकिस्तान की टीम जवाब में 39 रनों से पीछे रह गई थी और भारत ने मुकाबला जीत लिया था.

क्रिकेट के चलते हुई पिटाई

दोस्तों, अजय जडेजा के बारे में एक और बात है जो शायद आप नहीं जानते होंगे. अजय जडेजा मैदान पर मार भी खा चुके हैं. जी हां जमशेदपुर में 1991 दलीप ट्रॉफी फाइनल खेला जा रहा था. यह मैच था नॉर्थ जोन और वेस्ट जोन के बीच. नॉर्थ जोन की तरफ से अजय जडेजा के साथ रमण लाम्बा बल्लेबाजी कर रहे थे. वेस्ट जोन के तेज गेंदबाज राशिद पटेल अपनी बाउंसर गेंदों से रमण को काफी परेशान कर रहे थे. तभी मैच के 10वें ओवर में राशिद ने एक तीखा बाउंसर फेंका, जो रमण के सर के पास से गुजरा. इसपर रमण ने राशिद को कुछ कह दिया, जिससे राशिद गुस्से में स्टंप लेकर रमण के पास जाने लगे. बीच बचाव करने आए अजय जडेजा को राशिद ने स्टंप दे मारा. इसके बाद स्टेडियम में मौजूद दर्शक पत्थर चलाने लगे और मैच को तुरंत वहीं रोक दिया गया.

अजय जडेजा ने एक बार अपनी गेंदबाजी से भी भारतीय टीम को जीत दिलाई है. शारजाह में इंग्लैंड के खिलाफ अजय जडेजा ने 1 ओवर में 3 रन देकर 3 विकेट चटका लिए थे और भारत ने वह मैच जडेजा की वजह से जीत लिया. अजय जडेजा ने 13 वनडे मैचों में भारत की कप्तानी भी की.

जडेजा की लव स्टोरी

अजय जडेजा की लव स्टोरी भी काफी मशहूर है लेकिन उनकी प्रेम कहानी अधूरी है. जडेजा का नाम उस वक्त की सबसे खुबसूरत अदाकारा माधुरी दीक्षित के साथ जुड़ा. दरअसल अजय जडेजा की मुलाकात माधुरी दीक्षित से एक मैगज़ीन के लिए फोटोशूट के दौरान हुई थी. इसके बाद मीडिया में दोनों के लव स्टोरी की बात आने लगी. माधुरी दीक्षित के साथ नाम जुड़ने के बाद अब लोग जडेजा के फिल्मों में आने की बात कहने लगे यही नहीं कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ये भी कहा गया कि माधुरी ने एक प्रोड्यूसर से जडेजा की सिफारिश भी की थी. जडेजा के लव अफेयर से उनका परिवार खुश नहीं था. चूंकि जडेजा एक राज परिवार से आते थे और माधुरी उस वक्त बॉलीवुड में अपना करियर ही बना रही थी और माधुरी के साथ लव अफेयर से जडेजा के खेल पर भी असर पड़ रहा था. उनके प्रदर्शन में लगातार गिरावट आ रही थी इसलिए परिवार उनसे खेल पर ध्यान देने को कह रहा था.


फिर जडेजा का नाम मोहम्मद अजहरुद्दीन के साथ मैच फिक्सिंग मामले में आया, जिससे उनका करियर समाप्त ही हो गया. दरअसल दिल्ली पुलिस ने दक्षिण अफ्रीका के कप्तान हेंसी क्रोंजी और बिजनेसमैन संजय चावला की एक कॉल रिकॉर्डिंग सुनी, जिसमें अजहरुद्दीन के अलावा अजय जडेजा का भी नाम आया. क्रोंजी ने दक्षिण अफ्रीका की एक कोर्ट में बताया कि 1996 में कानपुर टेस्ट हारने के लिए उन्होंने एक बुकी से पैसे लिए थे. फिक्सिंग मामले में अजहरुद्दीन के अलावा अजय जडेजा, निखिल चोपड़ा और नयन मोंगिया का भी नाम आया. अजहर पर आजीवन प्रतिबन्ध लगा और बांकियों को 5 साल के लिए बैन कर दिया गया.

अदिति से शादी

फिर अजय जडेजा ने अदिति जेटली से शादी कर ली. अदिति जेटली एक बड़े घराने की बेटी थी, उनकी मां जया जेटली उस वक्त समता पार्टी की अध्यक्ष थी. फिर साल 2003 आया, जब अजय जडेजा को कोर्ट ने बरी कर दिया. उनपर लगे फिक्सिंग के आरोप बेबुनियाद साबित हुए. अजय जडेजा ने 15 टेस्ट मैचों में 576 रन बनाए जिसमें 4 अर्धशतक शामिल हैं. हालांकि जडेजा का वनडे करियर को देखें तो टेस्ट करियर उसके सामने कुछ भी नहीं है. अजय जडेजा ने भारत के लिए 196 वनडे खेले, जिसमें उन्होंने 37.47 की औसत से 5,359 रन बनाए हैं. इस दौरान उनके बल्ले से 6 शतक और 3 अर्धशतक निकले हैं. जडेजा के नाम 20 वनडे विकेट भी दर्ज हैं.

जडेजा पर्दे पर

अजय जडेजा ने संन्यास के बाद बॉलीवुड में भी हाथ आजमाया. उन्होंने खेल मूवी से बॉलीवुड में एंट्री ली. इस फिल्म में सुनील शेट्टी, सनी देओल और सलेना जेटली थे. इसके बाद साल 2009 में उन्होंने पल पल दिल के साथ और काई पो छे में काम किया.


2015 में उनको दिल्ली का कोच बनाया गया लेकिन उन्होंने इससे अपना इस्तीफा दे दिया. आज अजय जडेजा क्रिकेट कमेंट्री और बतौर एक्सपर्ट काम कर रहे हैं यानी अभी भी वो क्रिकेट से जुड़े हुए हैं. चक दे क्रिकेट की पूरी टीम उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती है.

तो इस तरह किसी दूसरे की गलती का खामियाजा अजय जडेजा को भुगतना पड़ा क्या आपको भी यही लगता है ? कमेंट में बताएं.  ये थी आज की कहानी, उम्मीद है आपको ये कहानी अच्छी लगी होगी.

Leave a Comment