Placeholder canvas

DK: डिप्रेशन से फिनिशर तक का सफर

Bihari News

चक दे क्रिकेट के खास सेगमेंट चक दे क्लिक में बात उस खिलाड़ी की जिसने अपने निजी जीवन में कई बड़े उतार चढ़ाव देखें हैं. लेकिन इन विकट परिस्थितियों के बाद भी कैसे निकला जा सकता है इस खिलाड़ी को खूब मालूम था, तभी तो इस खिलाड़ी ने अपने आप को क्रिकेट से बहुत दूर नहीं किया, नहीं तो इन विकट परिस्थितियों से गुजरने के बाद लौट कर फिर से वापस आना बड़ा मुश्किल होता है. इस खिलाड़ी के बल्ले से जब रन निकलना बंद हो गया तो इसने कमेंट्री शुरू कर दी. और साथ ही घरेलु मैच भी खेलता रहा. और देखिए किस्मत, एकदम से खत्म होते कैरियर के बीच में एक बरदान के रूप में आया IPL 2022 जिसमें इस होनहार खिलाड़ी का बल्ला खूब गरजा, इससे पहले यह खिलाड़ी क्रिकेट से कोसो दूर चला गया था. हाथ में जाम थाम लिया था. वह अपनी टीम के लिए और बाद में टीम इंडिया के लिए एक फिनिशर के रूप में देखा जाने लगा. आज जब टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया में टी-20 विश्वकप जीतने के लिए अपने तरकस में तीर को सजा रही है तो इस खिलाड़ी का भी नाम एक कमान के साथ लिखा हुआ है.और हम बात करने जा रहे हैं दिनेश कार्तिक के बारे में

दिनेश कार्तिक के लिए टीम इंडिया में फिर से लौट आना इतना आसान नहीं था. कार्तिक तीन साल के बाद भारतीय टीम में एंट्री हुई है. इससे पहले वे साल 2019 का विश्वकप में भारतीय टीम का हिस्सा थे. उसके बाद सीधा 2022 के IPL में इनकी एंट्री हुई वो भी धमाकेदार. आज कार्तिक को एक वेस्ट फिनिशर के तौर पर देखा जा रहा है. कार्तिक ने वनडे में साल 2004 में पहला मैच खेला था. उसके बाद वे टीम में अंदर बाहर होते रहे. लेकिन उनका घरेलु क्रिकेट में प्रदर्शन शानदार रहा. साल 2004 के अंत में भारतीय टीम में धोनी की एंट्री होती है. लेकिन चयनकर्ता के सामने एक समस्या यह भी था कि किसे खिलाए खैर धोनी को मौका मिला. इस दौरान धोनी ने शानदार प्रदर्शन दिखाया और साल 2007 में वे भारतीय टीम के कप्तान बन गए. इस समय तक दिनेश कार्तिक टीम में कभी अंदर होते तो कभी बाहर हो जाते. अबतक कार्तिक की स्थिति यह थी कि वे धोनी के विकल्प के रूप में देखे जा रहे थे. जब टीम में धोनी नहीं होते तो कार्तिक को मौका मिलता था. हालांकि कार्तिक का घरेलु क्रिक्रेट में प्रदर्शन शानदार था लेकिन धोनी से आगे नहीं निकल पा रहे थे.

इसी दौरान दिनेश कार्तिक की साल 2007 में शादी होती है. वे अपने बचपन की दोस्त निकिता से शादी करते हैं. कुछ ही समय के बाद उनकी शादी टूट जाती है. कार्तिक की पत्नी का दिल भारतीय टीम के ही खिलाड़ी मुरली विजय पर आ जाता है. जिसके बाद एक दिन कार्तिक और निकिता ने तलाक का फैसला ले लिया. शादी टूटने के बाद कार्तिक पूरी तरह से टूट गए. उधर भारतीय टीम में धोनी के आ जाने के बाद से कार्तिक के दरवाजे लगभग बंद हो गए थे और इधर निजी जीवन में जब एक सहारे की जरूरत थी तो पत्नी भी साथ नहीं दी. इन दिनों कार्तिक की स्थिति यह थी कि वह कुछ काम नहीं करना चाहते थे. उन्होंने क्रिकेट का अभ्यास भी लगभग छोड़ दिया था. यहां तक कि वे जिम भी नहीं जाते थे. शादी टूटने के साथ ही कार्तिक का फॉर्म भी खराब होने लगा था. इसके बाद उनसे रणजी में तमिलनाडु की कप्तनी छिन गई. और किस्मत देखिए मुरली विजय को तमिलनाडु टीम का कप्तान बना दिया गया. इतना ही नहीं मुरली का चयन भारतीय टीम में भी हुआ और वे लंबे समय तक भारतीय टेस्ट टीम के लिए सलामी बल्लेबाज के रूप में पारी की शुरुआत करते रहे. और इधर कार्तिक पूरी तरह से डिप्रेशन में चले गए थे. उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था. एक समय तो ऐसा भी आया जब कार्तिक ने आत्महत्या के बारे में विचार कर लिया था. वो कहावत है न कि जाको राखे साइंयामार सके न कोईअब समय आ गया था जब कार्तिक को उस बुरे दौर से बाहर आना था. एक दिन कार्तिक के जिम ट्रेनर उनके घर आए तो देखा की कार्तिक का घर अस्तव्यस्त है कार्तिक की दाढ़ी बढ़ी हुई है वह किनारे में कही बैठा हुआ है. जैसे जीवन से कोई मोह नहीं होइस दौरान उन्होंने कार्तिक को मोटिवेट किया और जिम आने को कहा. यहीं जिम में स्कॉश खिलाड़ी दिपाली पल्लीकल से दिनेश की मुलाकात हुई और कार्तिक की जिंदगी एक बार फिर से बदलने वाली थी. अब कार्तिक रोज जिम जाने लगेयहां जिम में पल्लीकर ट्रेनर के साथ मिलकर कार्तिक से बात करने लगी. इन दोनों ने मिलकर दिनेश को उस बुरे दौर से बाहर लाने की कोशिश की. धीरेधीरे कर कार्तिक एक बार फिर से अपने पूराने रंग में लौटने लगे थे. अब वे एक बार फिर से बल्ले को पकड़ना शुरू कर दिया था. जब कार्तिक इस दौर से बाहर आए तो उनका चयन भारतीय टीम के साथ ही IPL में KKR की तरफ से हुआ, और उन्हें टीम की कमान दे दी गई. लेकिन वे अपनी कप्तानी में टीम को IPL तो नहीं जीतवा सके लेकिन बाद में कप्तनी भी हाथ से निकल गई. और मॉर्गन को कप्तान बना दिया गया. इस समय कार्तिक के मन में यह आया कि वे इंटरनेशल क्रिकेट से सन्यास ले लें और सिर्फ IPL खेलें.

कार्तिक अभी भी मुश्किल दौर से गुजर रहे थे. लेकिन इस बार दीपिका उनके साथ थी. कार्तिक ने खेलना बंद कर दिया था. हालांकि इस बार दीपिका प्रेगनेंट हुई तो दोनों ने खेलना बंद कर दिया. और दीपिका को जुड़वा बच्चे हुए. इन दोनों के चेहरे पर खुशी थी. दिनेश की इच्छा थी कि पोएस गार्डन में उनका अपना घर हो लेकिन वहां घर बहुत महंगा था. इन दोनों ने घर खरीदने के लिए फिर से खेलना शुरू किया, दीपिका फिर से स्कॉश खेलने चली गई और कार्तिक ने कमेंट्री में अपनी किश्मत आजमाया, यहां ये सुपरहिट रहे. इसके बाद इन दोनों ने पोएस गार्डन में अपना घर खरीद लिया. अब तक IPL का 15 वां सीजन आने वाला था. खिलाड़ियों की निलामी शुरू हो गई थी धोनी चाहते थे कि कार्तिक चेन्नई टीम में रहे ताकि धोनी के बाहर होने के बाद उनके पास एक अनुभवी विकेटकीपर और एक फिनिशर हो लेकिन कार्तिक को बैंगलोर ने खरीद लिया. IPL 2022 में कार्तिक की बल्लेबाजी देख हर कोई मुरीद हो गया था. ऐसा लग रहा था कि जैसे इस खिलाड़ी में फिर से पंख लग गए हों. इसी IPL के दौरान उन्होंने इच्छा जाहिर की वे फिर से टीम इंडिया के लिए खेलना चाहते हैं. इसके बाद उनका सपना पूरा हुआ और वे दक्षिण अफ्रिका के खिलाफ होने वाले सीरीज में उनका चनय हुआ जहां उनका प्रदर्शन शानदार रहा. उसके बाद उनका चयन ऑस्ट्रेलिया में होने वाले T-20 विश्वकप में भी हो गया है.

Leave a Comment