Placeholder canvas

भारतीय सामाजिक अनुसंधान परिषद के डॉक्टरल फेलोशिप के लिए बिहार के लाल का हुआ चयन

Bihari News

भारतीय सामाजिक अनुसंधान परिषद् (ICSSR) ने डॉक्टरॉल फेलोशीप 2022-23 की सूची जारी की है। देश भर में मीडिया अनुसंधान के लिए कुल 15 अनुसंधानकर्ताओं का चयन किया गया है। पद्म श्री रघुराय की फोटो पत्रकारिता के सामाजिक यथार्थ पर अनुसंधानरत अमित कुमार मिश्रा का चयन वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय से किया गया है। आपको बता दें कि देश के सभी विश्वविद्यालयों में से 461 शोधार्थियों का चयन इस डॉक्टरेट फेलोशीप के लिए किया गया है इसमें सभी सामाजिक विज्ञान के अनुसंधानकर्ता के रूप में इन्हें शामिल हैं।

अमित कुमार मिश्रा वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय के इकलौते पीएचडी शोधार्थी हैं जिनका चयन इस बार ICSSR के डॉक्टरॉल फेलोशीप के लिए किया है। अमित कुमार मिश्रा साल 2019-20 बैच के शोधार्थी हैं और ये मीडिया अध्ययन विभाग में सहायक प्रोफेसर डॉ. सुनील कुमार के सुपरविजन में शोधरत हैं। अमित मिश्रा भभुआ जिला के उमापुर के निवासी हैं वर्तमान में इनका परिवार वाराणसी के छतरीपुर शिवपुर मुहल्ले में रह रहे हैं. अमित डॉ. धर्मेंद्र कुमार और चन्द्रकला देवी के सबसे छोटे पुत्र हैं.

ICSSR डॉक्टरॉल फेलोशीप में चयन पर विभागाध्यक्ष डॉ. मनोज मिश्रा ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह विभाग की उपलब्धि है। अमित मिश्रा का विषय आज के संदर्भ में बड़ा मायने रखता है। आज कई प्लेटफार्म है जो तस्वीरों के माध्यम से अभिव्यक्ति को जन जन तक पहुंचा रहे हैं। महान फोटो पत्रकार पद्मश्री रघुराय की तस्वीरें आपातकाल, भोपाल गैस लीक कांड के सबसे बड़े गवाह के तौर पर देखा जाता है। आज के संदर्भ में तस्वीरों को दुनिया में क्रांति के सबसे बड़े वाहक के तौर पर देखा जा रहा है। वहीं उनके शिक्षक रहे और वर्तमान में महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर डॉ. परमात्मा कुमार मिश्रा ने कहा कि अमित मेघावी हैं, इनोवे़टिव हैं और सबसे बड़ी बात साकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ने वाले अनुसंधानकर्ता हैं। इनका विषय युनिक है और आज के संदर्भ में है।

Leave a Comment