Placeholder canvas

रेलवे ने फिर बढ़ाया प्लेटफॉर्म टिकट का दाम, जानिए क्यों?

Bihari News

अक्टूबर का यह महीना त्योहारी सीजन वाला होने वाला है. इस महीने की शुरुआत ही हुई थी दशहरा के साथ और अब दिपावली और उसके बाद छठ ऐसे में एक तरफ जहां इसपूरे महीने में त्योहार है तो वहीं दूसरी तरफ लोग इन त्योहारों को मनाने के लिए लोग अपने अपने गांव घर पहुंच रहे हैं. ऐसे में रेलवे के साथ ही हवाई जहाज में भी यात्रियों की संख्या में भी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. स्थिति यह भी है कि ट्रेनों में जहां सीट नहीं मिल रही है तो वहीं हवाई जहाज में किराया लगातार बढ़ रहा है. बता दें कि बिहार और उत्तर प्रदेश के साथ ही झारखंड और पश्चिम बंगाल जाने वाले यात्रियों की संख्या में खुब होती है. ऐसे में रेलवे भी लगातार छठ स्पेशल ट्रेनों का परिचालन कर रहा है. जिससे की यात्रियों को ज्यादा परेशानी का सामना न करना पड़े. हालांकि इन दिनों ट्रेनों में टिकट की भी खुब मारामारी चल रही है.

उत्तर भारत की ओर आने वाली ट्रेनों में यात्रियों की संख्या में जबरदस्त इजाफा देखने को मिलता है. यात्रियों की भीड़ को ध्यान में रखते हुए रेलवे प्लेटफॉम टिकट के दाम को 3 गुना कर दिया गया है. ताकि लोग रेलवे स्टेशन पर ज्यादा भीड़ न लगा सके. बता दें कि कोई एक व्यक्ति जब ट्रेन पकड़ने आता है तो उसे छोड़ने वालों ही दो या तीन होते हैं ऐसे में रेलवे प्लेटफॉर्म पर यात्रियों की संख्या बढ़ जाती है. इसको ध्यान में रखते हुए प्लेटफॉर्म किराया बढ़ाया जा रहा है. ताकि कम लोग प्लेटफॉर्म पर पहुंच सके. बता दें कि इसी तरह का फैसला रेलवे ने कोरोना काल के दौरान लिया था जिसमें प्लेटफॉर्म का किराया 50 रुपया कर दिया गया था. ताकि यात्रियों के साथ ज्यादा लोग स्टेशन तक न जाएं. हालांकि इस दौरान रेलवे स्टेशनों पर टिकट जांच की रफ्तार को बढ़ा दिया गया है. टीटीई लगातार स्टेशनों पर जांच कर रहे हैं.

खासकर अगर दिल्ली के स्टेशनों की बात करें तो दिल्ली रेलवे स्टेशन, आनंद विहार रेलवे टर्मिनल, साहिबाबाद जंक्शन, गाजियाबाद जैसे स्टेशनों से यात्रा करने वाले यात्रियों पर इस नए नियम का असर देखने को मिल सकता है. बता दें कि इन रेलवे स्टेशनों पर त्योहारों के समय में सबसे ज्यादा भीड़ देखने को मिलता है. ऐसे में कहा जा रहा है कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्लेटफॉर्म टिकट के प्राइस में बढ़ोतरी की गई है. साथ ही कई तरह के अभियान भी चलाए जा रहे हैं. साथ ही यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ट्रेनों में RPF केजवानों की भी तैनाती की जा रही है.

बताया जा रहा है कि गाजियाबाद रेलवे स्टेशन से उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल की तरफ जाने वाली ट्रेनें लगभग 50 हैं जबकि त्योहारों के सीजन में यात्रियों की संख्या 10 गुना बढ़ जाती है. ऐसे में रेलवे स्टेशन पर भीड़ बढ़ जाता है. इस दौरान ट्रेनों की संख्या में भी बढ़ोतरी की जाती है. गाजीयाबाद रेलवे स्टेशन से इस बार 20 अधिक ट्रेन चलाने की बात कही जा रही है. रेलवे ने इसी भीड़ को नियत्रिंत करने के लिए रेलवे प्लेटफॉर्म टिकट के दाम में 10 रुपये की जगह उसे 30 रुपया किया गया है यह 30 अक्टूबर 2022 तक प्रभावी होगा. इसके रेलवे पुराने रेट पर ही प्लेटफॉर्म टिकट की वसूली करेगा.

Leave a Comment