skip to content

‘हमने गंभीर और युवराज को 2007 टी20 वर्ल्ड कप में देखा है’, पंत और कार्तिक में से किसी एक को चुनने पर रैना ने दिया दिलचस्प जवाब

Bihari News

अब ये बात तय हो गई है कि आगामी टी20 वर्ल्ड कप में Dinesh Karthik ही टीम इंडिया के विकेटकीपर होंगे यानी प्लेइंग-11 में Rishabh Pant को शामिल करने की उम्मीद ना के बराबर है. लेकिन क्या एक स्पेशलिस्ट बल्लेबाज के रूप में पंत प्लेइंग-11 में जगह बना सकते हैं ? पंत के हालिया टी20 फॉर्म को देखते हुए ऐसा होना तो असंभव दिख रहा है और फिर मिडिल ऑर्डर में जगह भी टी नहीं है. लेकिन सिर्फ एक चीज है जो पंत को प्लेइंग-11 में जगह दिला सकती है, वो है ऋषभ पंत का एक बाएं हाथ का बल्लेबाज होना. टॉप-4 में पंत ही इकलौते लेफ्ट-हैंडर हैं. हालांकि ऑलराउंडर Axar Patel टीम में एक और बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं लेकिन वो नंबर-6 से पहले नहीं जा सकते. यही कारण है कि टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर Suresh Raina का मानना है कि कप्तान Rohit Sharma और टीम को पंत को शामिल करना चाहिए. रैना का कहना है कि पंत टीम को विविधता प्रदान करेंगे.

सुरेश रैना ने Gautam Gambhir और Yuvraj Singh का उदाहरण देते हुए बताया कि कैसे दोनों 2007 टी20 विश्व कप में उन्होंने भारत को चैंपियन बनाने में अहम योगदान दिया था. गौरतलब है कि गौतम गंभीर, जिन्होंने वीरेंद्र सहवाग के साथ टूर्नामेंट में ओपनिंग की थी, सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे थे. इतना ही नहीं पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल मुकाबले में गौतम गंभीर ने सबसे अधिक रन बनाए थे. उनके अलावा युवराज सिंह ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में शानदार पारी खेली थी, इस मैच में युवराज ने 12 गेंदों पर अर्धशतक जड़ा था, जो आज भी एक रिकॉर्ड है. इसी मैच में युवराज ने इंग्लैंड के तेज गेंदबाज Stuart Broad के एक ओवर में 6 छक्के लगाए थे.

रैना से जब पंत और कार्तिक में से किसी एक को चुनने के लिए कहा गया तो रैना ने कहा, “दिनेश कार्तिक अच्छी फॉर्म में हैं और उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है. लेकिन अगर ऋषभ पंत पक्ष में हैं, तो यह आपको वह एक्स-फैक्टर प्रदान करता है क्योंकि वह बाएं हाथ का बल्लेबाज है. हमने देखा कि गौतम गंभीर ने 2007 टी20 वर्ल्ड कप में कैसा प्रदर्शन किया था. युवराज सिंह के छह छक्के थे. फिर 2011 वर्ल्ड कप में इन दोनों ने बड़ी भूमिका निभाई. इसलिए मुझे लगता है कि बाएं हाथ का बल्लेबाज होने से आपको वह फायदा मिलता है.”

सुरेश रैना, जो खुद भारतीय टीम के मैच-विनर खिलाड़ी थे, उनका मानना है कि पंत के मिडिल ऑर्डर में रहने से भारतीय टीम को फायदा होगा. रैना ने कहा कि अगर 1 गेंद में 6 रनों की जरुरत है तो पंत छक्का लगाकर भारत को जीता सकते हैं.

रैना ने NDTV पर कहा, “ऋषभ जानता है कि पहली गेंद पर छक्का कैसे मारा जाता है. अगर उसे मौका मिलता है, तो वह निश्चित रूप से अच्छा करेगा.”

Leave a Comment