Placeholder canvas

T20WC 2022: तय हो गई टी20 वर्ल्ड कप की सुपर-12 टीमें, इनके बीच होगी अब चैंपियन बनने की जंग

Bihari News

सुपर 12 में जगह बनाने की लड़ाई अब अपने मुकाम पर आ गई है। टी 20 वर्ल्ड कप 2022 के सुपर 12 के मुकाबलों का आगाज ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के मैच के साथ 22 अक्टूबर को होगा। मगर 16 अक्टूबर से चली आ रही जंग में 4 टीमों ने बाजी मारते हुए अंतिम 12 में जगह बना ली है। साथ ही कुछ टीमों ने टेस्ट प्लेइंग नेशन को मात देकर एक बड़ा उलटफेर कर दिया। आप इस बात का अंदाजा इसी बात से लगा सकते है कि दो बार की टी 20 वर्ल्ड कप विजेता टीम वेस्टइंडीज सुपर 12 में जगह नहीं बना पाई और वर्ल्ड कप से बाहर हो गई हैं।

क्वालीफाइंग मुकाबलों के लिए 8 टीमों को दो ग्रुप में विभाजित किया गया था। पहले ग्रुप में श्रीलंका, नीदरलैंड, नामीबिया और यूएई थी। वही दूसरे में आयरलैंड, स्काटलैंड, जिम्बाब्वे और वेस्टइंडीज की टीमें थी। इन टीमों में आपको दो वर्ल्ड कप विजेता टीम भी दिख रही होंगी जोकि श्रीलंका और वेस्टइंडीज है। इसी साल खेले गए टी 20 एशिया कप का चैंपियन बनने के बावजूद श्रीलंका को अपनी जगह बनने के लिए इन टीमों के साथ संघर्ष करना पड़ा। मगर अंत तह ग्रुप A में श्रीलंका और नीदरलैंड जगह बनाने में कामयाब हुई। वही ग्रुप B से आयरलैंड और जिम्बाब्वे आगे के मैचों के लिए क्वालीफाई कर गए है।

इन टीमों में होगी सुपर-12 की जंग

टी 20 वर्ल्ड कप की शुरुआत 22 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के मुकाबले से किया जायेगा। वही विश्व का सबसे बड़ा मुकाबला 23 अक्टूबर को भारत और पाकिस्तान के बीच खेला जाएगा। अब सभी 12 टीमें सुपर 12 के लिए निश्चित हो गई है। इन टीमों को दो ग्रुप में बाटा गया है। जिसमे से दोनो ग्रुप में चार चार टीम पहले से मौजूद थी और क्वालीफायर मुकाबलों के बाद दो दो टीमों को और जोड़ा गया है।

Group A – अफगानिस्तान, आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, श्रीलंका और आयरलैंड।

Group B- बांग्लादेश, भारत, नीदरलैंड, पाकिस्तान, साउथ अफ्रीका और जिम्बाब्वे।

इस रोमांचक टूर्नामेंट को फाइनल मुकाबला 13 नवंबर को खेला जाएगा। भारतीय टीम भी स्टार गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की गैरमौजूदगी में खेलेगी। भारतीय बल्लेबाज अगर दमदार खेल दिखाने में कामयाब होते है तो हम अंतिम चार में जगह बनाने में कामयाब हो सकते है। वहीं वर्ल्ड कप विजेता कप्तान कपिल देव ने भारत की दावेदारी पर सवाल खड़ा करते कहा कि भारत के अंतिम 4 में पहुंचने की उम्मीद केवल 30 फीसदी ही है। अब देखना यह होगा कि भारत 2007 वाला कारनामा दोहरा पाते है या नहीं।

Leave a Comment