Placeholder canvas

एक ही गेंद पर 2 बार आउट हुआ बल्लेबाज लेकिन नहीं लौटा पवेलियन, आखिर क्यों ?

Bihari News

ऑस्ट्रेलिया में इस वक्त चर्चित बिग बैश लीग यानी BBL खेली जा रही है, जिसमें हर रोज दमदार मैच खेले जा रहे हैं. हमने आपको पहले एक विडियो में बताया था कि कैसे एक मैच में टीम सिर्फ 15 रनों पर ऑलआउट हो गई थी. बिग बैश लीग ऑस्ट्रेलिया की घरेलु टी20 लीग है, जिसमें मौजूदा ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाड़ी भी हिस्सा लेते हैं.

 इस लेख में हम आपको एक और मैच के बारे में बताएंगे, जिसमें एक अजीबोगरीब हादसा हुआ. जी हां, दोस्तों, रविवार को मेलबर्न रेनेगेड्स और सिडनी थंडर के बीच एक मैच खेला गया, जिसमें मेलबर्न की टीम ने 4 विकेट से मुकाबला जीत लिया. पहले बल्लेबाजी करते हुए सिडनी थंडर ने निर्धारित 20 ओवरों में 6 विकेट पर 174 रन बनाए, जवाब में मेलबर्न रेनेगेड्स ने एक गेंद रहते 6 विकेट पर ही लक्ष्य को हासिल कर लिया और मुकाबला अपने नाम किया. सिडनी थंडर भले ही हार गई हो लेकिन उनके बल्लेबाज रिले रूसो की पारी खूब चर्चाओं में है. रूसो ने 38 गेंदों पर 53 रन बनाए लेकिन बल्लेबाजी के दौरान कुछ ऐसा हुआ, जिसने क्रिकेट प्रेमियों को चकित कर दिया था.

एक ही गेंद पर 2 तरीके से आउट होने से बचा बल्लेबाज

वैसे तो क्रिकेट स्किल और दिमाग का खेल है लेकिन इसमें कई बार किस्मत भी अपना खेल कर देती है. इसी किस्मत या लक के चलते कुछ मैदान पर कुछ ऐसी चीजें भी हो जाती हैं कि देखने वाले देखते रह जाते हैं और काफी देर तक उसके बारे में सोचते रह जाते हैं. रविवार को मेलबर्न रेनेगेड्स और सिडनी थंडर के बीच खेले गए मैच में भी कुछ ऐसा ही हुआ. दरअसल मैच के दौरान जब सिडनी थंडर के रिले रूसो बल्लेबाजी कर रहे थे तभी गेंदबाज ने एक योर्कर फेंकी, जो उनके पैड पर लगी और गेंदबाज के अपील के बाद अंपायर ने उन्हें आउट करार दिया. लेकिन रूसो ने अंपायर को देखा नहीं और रन लेने के लिए दौड़ने लगे लेकिन बाद में पलट गए. जैसे ही वो पलटे गेंद विकेटों पर लग चुकी थी और वो रन आउट थे.

हालांकि रूसो ने LBW के लिए तुरंत रिव्यु की मांग की और उसमें पता चला कि बॉल स्टंप्स को मिस कर रही है इसलिए तब अंपायर को अपना फैसला बदलना पड़ा और रूसो नॉट-आउट करार दे दिए गए. बाद में रिप्ले में ये भी पता चला कि वो रन आउट भी हो गए थे. लेकिन अंपायर ने उन्हें थ्रो मारने से पहले ही आउट दे दिया था इसलिए गेम वहीं रुक गया था और रनआउट काउंट नहीं किया गया. ऐसे में रूसो एक ही गेंद पर पहले एलबीडबल्यू और फिर रनआउट होने से बच गए.

मेलबर्न रेनेगेड्स के एरोन फिंच ने मात्र 43 गेंदों पर 70 रन बनाए थे और अपनी टीम को शानदार जीत दिलाई थी. मैच जिताऊ पारी पारी के लिए फिंच को ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ चुना गया.

तो इस तरह आपने देखा कि BBL के अंदर कितने रोमांचक मुकाबले होते हैं, कैसे एक मैच में टीम सिर्फ 15 रन पर ऑलआउट हो गई थी और अब एक बल्लेबाज कैसे एक ही गेंद पर 2 बार आउट होने से बच गया. यह सिर्फ क्रिकेट में ही संभव है, तभी तो क्रिकेट का भूत हर किसी पर सवार रहता है.

Leave a Comment