Placeholder canvas

Hardik on Mankading: मांकडिंग पर हार्दिक पांड्या की दो टूक, अगर नियम है तो खेल भावना की परवाह नहीं

Bihari News

मांकडिंग का विषय लगातार विवादो में रहता है। क्रिकेट पंडित नॉन स्ट्राइकर बल्लेबाज को गेंदबाज द्वारा मांकड़ करने पर खेल भावना की दुहाई देने लगते हैं आखिर जब कोई नियम रूल बुक का हिस्सा है तो उसमे खेल भावना को आहत पहुंचाने का सवाल कहा से पैदा होता है? इसी मुद्दे पर भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या ने खुले मिजाज से बात चीत की और जवाब देते हुए सबको चौंका दिया साथ ही दीप्ति शर्मा पर उंगली उठाने वालों की उंगली तोड़ भी दी।

हार्दिक पांड्या ने नियम को मानने की सलाह देते हुए कहा की वह इस मामले में खेल भावना की परवाह नहीं करते है। क्रिकेट का खेल नियमों से चलता है हम नियमों से बंधे हुए है। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ दमदार प्रदर्शन किया था। बल्लेबाजी से पांड्या से 40 रन बनाए और गेंदबाजी से भी 3 विकेट झटके थे। पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले ही हार्दिक पांड्या ने आईसीसी द्वारा एक पॉडकास्ट में हिस्सा लेते हुए मांडकिंग पर अपने विचार पेश किए।

मांडकिंग करते ही एक गेंदबाज दुनिया की नजर में गुनहगार बन जाता है। वह इससे खेल भावना का विरोधी बताने लगते है। इन सब की शुरुआत हुई थी आईपीएल में रविचंद्रन अश्विन द्वारा इंग्लैंड के।खिलाड़ी जोश बटलर को मांकड़ करने से। तब सभी ने आश्विन के इस रनआउट पर उन्हे खूब लताड़ा था और खेल भावना का दोषी भी करारा दिया था। जिसके बाद विदेशी क्रिकेट एक्सपर्ट्स और पूर्व क्रिकेटर्स ने अश्विन के खिलाफ मोर्चा खोला था।

अब इस मामले ने एक बार फिर तुल पकड़ लिया है। भारतीय महिला टीम की खिलाड़ी दीप्ति शर्मा ने इंग्लैंड दौरे में श्रृंखला के तीसरे और आखिरी मैच में चार्ली डीन को गेंदबाजी छोर पर रन आउट किया था। इसके बाद दीप्ति को कड़ी आलोचना का सामना करना बड़ा था। गौरतलब है कि ‘मांडकिंग’ को आईसीसी से मांडकिंग को रन आउट का वैध तरीका करार दिया था। हार्दिक ने अपनी बात को रखते हुए कहा ” एक बल्लेबाज के तौर पर मुझे इससे कोई परेशानी नहीं है, अगर मैं नॉन स्ट्राइकर एंड पर अपनी क्रीज से बाहर निकलता ही और गेंदबाज मुझे रनआउट कर देता है तो इसमें मेरी गलती होगी, वह नियमों का फायदा ले रहे है बस और इसमें कुछ भी गलत नहीं है।”

पांड्या ने आगे कहा ” कि यह नियमों का हिस्सा है। ऐसे में खेल भावना की परवाह नहीं करनी चाहिये।” पांड्या एक दमदार खिलाड़ी है ऐसे में उनका मांकडिंग सपोर्ट करना दीप्ति और आश्विन को जरूर सही साबित करता है।

Leave a Comment