skip to content

IPL 2023 : क्या धोनी को फेयरवेल दे पाएंगे चेन्नई के सुपरकिंग्स ?

Bihari News

आईपीएल यानि इंडियन प्रीमियर लीग कहने को तो ये महज एक टूर्नामेंट लगता है लेकिन सही मायनो में यह भारतीयों का एक इमोशन है एक कारवां है जो हर साल कुछ नए चेहरों , नई उम्मीद और कुछ अविश्वसनीय चीजें अपने साथ लेकर आता है। लगभग दो महीने तक चलने वाले इस आईपीएल का रोमांच, और टीम का लेवल और बेहतर होता चला जाता है। आईपीएल 2023 का बिगुल बज चुका है। इसलिए हम आपके लिए लेकर आए है आईपीएल की सभी दस टीमों का विश्लेषण। जहां आज की हम इस विडियो में बात करेंगे आईपीएल की उस टीम की जो सफल टीमों में से एक है जिसकी बागडोर कई सीजन से एक ही खिलाड़ी के हाथों में बनी हुई है वो टीम है चेन्नई सुपर किंग्स और वो खिलाड़ी महेंद्र सिंह धौनी। आज हम इसी टीम का विश्लेषण करेंगे और जानेंगे कि आखिर इस टीम की मजबूती , कमजोरी और X फैक्टर क्या है दोस्तों इस टीम का विश्लेषण इसलिए भी खास है क्योंकि हो सकता है कि टीम के लेजेंड कप्तान और बल्लेबाज महेंद्र सिंह धौनी का ये आखिरी आईपीएल हो।

तो चलिए शुरू करते है सीएसके टीम का विश्लेषण

चेन्नई सुपर किंग्स का पहला मुकाबला गत चैंपियन गुजरात टायटंस से है ऐसे में सीएसके हार्दिक की अगुवाई वाली गुजरात टायटंस को हल्के में नहीं लेना चाहेगी। अगर सीएसके की प्लेइंग इलेवन देखा जाए तो काफी मजबूत नजर आ रही है। पिछली बार की तरह इस बार भी सीएसके की पारी की शुरुआत करने की जिम्मेदारी ऋतुराज गायकवाड और डेविन कोनवे के कंधो पर रहने वाली है। ऋतुराज जिस तरह के खिलाड़ी है उस लिहाज से उनका पिछला सीजन अच्छा नही रहा था। हालाकि इससे पहले के कुछ सीजन में ऋतुराज का बल्ला जमकर आग उगलता रहा है। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज में प्रतिभा की बिलकुल भी कमी नही है टीम को अक्रामक शुरुआत देने में ऋतुराज में अद्भुत क्षमता है। पहले ही ओवर से विरोधी गेंदबाजों पर टूट पड़ते है। इस खिलाड़ी में गगनचुंबी छक्के लगाने की अद्भुत कला भी है। ऋतुराज के पिछले सीजन की बात करें तो इन्होंने कुल 14 मैचों मे 26 की औसत से 368 रन बनाए थे। ऋतुराज चाहेंगे की इस सीजन में अपने पुराने अंदाज में लौटे और रनों का पहाड़ खड़ा कर सके। वहीं दूसरी तरफ है डेविड कोनवे जो पिछले साल सीएसके की तरफ से पूरा सीजन नही खेल पाए थे। वो आखिरी के कुछ मैचों में शामिल हुए और आते ही उन्होंने चेन्नई सेलेक्टरों को बता दिया कि भैया मुझे क्यों बाहर बैठाया था। कोनवे भी एक अक्रामक ओपनर बल्लेबाज है। जिनमे अकेले दम बड़ा स्कोर खड़ा करने का हुनर है। कोनवे ने पिछले सीजन में सिर्फ 7 मैच खेलें जिसमे उन्होंने 42 की औसत से 252 रन बनाए। तो दोस्तो इस बात में कोई दोहराए नहीं है कि यह खिलाड़ी इस साल और अक्रामक खेल दिखाएगा।

वैसे सीएसके की ओपनिंग जोड़ी तो धमाकेदार लग रही है आइए अब बात करते है मिडिल ऑर्डर की। नंबर तीन पर हमने मोईन अली को रखा है क्योंकि वैसे तो ये बोलिंग ऑल राउंडर है लेकिन सीएसके इन्हे नंबर तीन पर ही भेजती है। शुरुआती झटकों के बाद टीम को संभालने की इस खिलाड़ी में अच्छी समझ है। मोईन अली एक ऐसे खिलाड़ी है जो नजाकत और अक्रामक दोनो तरह से खेल दिखाते है। मोईन बड़ी पारी तो नही खेलते नहीं छोटी और इंपैक्ट पारी जरूर खेलते है। पिछले साल मोईन अली ने 24 की औसत से 10 मैच में 244 रन बनाए थे। अब नंबर चार पर जो खिलाड़ी है वो सीएसके को थोड़ी स्टेबिलिटी देता है नाम है अंबाती रायडू। यह खिलाड़ी जब फॉर्म में होता है तो सामने कौन सा गेंदबाज है कोई मायने नही रखता। इनकी फार्म का अंदाजा ऐसे लगाइए कि जब ये मिस टाइम से भी शॉट खेलते है तो गेंद दर्शक दीर्घा में जाकर ही गिरती है। अगर बात करें इनके 2022 के आंकड़ों की तो 24 की औसत से इन्होंने 11 मैच में 274 रन बनाए थे। इस सीजन सीएसके को अंबाती रायडू से काफी उम्मीदें है। मिडिल ऑर्डर पर नंबर पांच पर सीएसके ने एक धमाकेदार शानदार ऑल राउंडर बेन स्टोक्स को रखा है। इस खिलाड़ी को लेकर एक दुविधा यह भी है कि क्या बेन स्टोक्स सीएसके की तरफ से पूरा सीजन खेलेंगे या नहीं क्योंकि पिछले सीजन में ये नादरत थे । लेकिन 2020 के आईपीएल में इन्होंने 8 मैच में 285 रन बनाए थे। इस सीजन बेन स्टोक्स टीम के लिए तुरुप का इक्का भी साबित हो सकते है।

अब अगर ऑल राउंडर की बात कर रहे है छठे नंबर पर एक खिलाड़ी और है जो टेस्ट क्रिकेट का नंबर वन ऑल राउंडर है। और सीएसके के लिए तो मनो सबकुछ है। रवींद्र जडेजा। जडेजा टीम के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी जो बैटिंग , बोलिंग में तो कमाल करते ही है फिल्डिंग में भी अपना करिश्मा दिखाते है। अगर सीएसके की पारी लडखडा भी गई तो जडेजा वो भरोसेमंद खिलाड़ी है जो टीम की डूबती नैया को पार लगाकर ही दम लेता है। जडेजा के छुपा रुस्तम खिलाड़ी साबित हो सकते है। जडेजा काफी नीचे बल्लेबाजी करते है इस लिहाज से उन्हे कम मैच ही मिलते है। पिछले साल उन्होंने 10 मैच में 116 रन बनाए थे। और सिर्फ 5 विकेट ही झटके थे। ऐसे में रविंद्र जडेजा की इस बार कुछ कमाल दिखाना जरूर चाहेंगे। अब सातवें नंबर पर जो खिलाड़ी है वो सिर्फ सीएसके की ही जान नही बल्कि करोड़ों भारतीयों की धड़कन भी है । महेंद्र सिंह धोनी। धोनी क्या है इसका अंदाजा इसी से लगाइए कि कुछ दिन पहले जब वो चेन्नई के चेपाक में प्रैक्टिस के लिए गए थे तो उन्हें देखने लगभग 40 हजार फैंस आए थे। वो भी अभ्यास मैच में।

सोचिए जब यह खिलाड़ी 31 मार्च को नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम में उतरेगा तो क्या होगा। धोनी सीएसके टीम की वो रीढ़ है जहां टीम की बल्लेबाजी पूरी तरह से दम तोड दे तो धोनी ही टीम को संभालते है। मतलब हारती हुई बाजी को अपनी तरफ कैसे मोड़ा जाए ये धोनी से सीखना चाहिए। शानदार फिनिशर । कहा तो यह भी जा रहा है कि धोनी का ये आखिरी आईपीएल होने वाला है ऐसे में सीएसके के प्रत्येक मैच में धोनी की बल्लेबाजी देखने के लिए उनके फैंस मैच देखना नही भूलेंगे। पिछले साल धोनी ने 13 मैच में 33 की औसत से 232 रन बनाए थे। ये तो रही सीएसके टीम की बल्लेबाजी की। अब बात करते है टीम के गेंदबाजी स्लॉट की। वैसे टीम के लिए दो ऑल राउंडर खिलाड़ी बता चुके है जो बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों की भूमिका निभाएंगे। बेन स्टोक्स और रवींद्र जडेजा। इसके अलावा शिवम दुबे है जो काफी किफायती साबित हो सकते है। शिवम दुबे टीम की जरूरत के हिसाब से ऊपर भी बल्लेबाजी करते नजर आते है। यह खिलाड़ी टीम के लिए X फैक्टर साबित हो सकता है। वहीं तेजबाजी की जिम्मेदारी दीपक चहर, मुकेश चौधरी और लुंगी एंगिडी के कंधो पर होगी। जिन्होंने विरोधी टीम के बल्लेबाजी क्रम को नेस्तनाबूत किया है। तो ये रहा सीएसके टीम का विश्लेषण। आपके अनुसार इस आईपीएल में चेन्नई की टीम का प्रदर्शन कैसा रहने वाला है, कमेंट में जरुर बताएं. अगले विश्लेषण सिगमेंट वाले लेख में हम एक और टीम का विश्लेषण करेंगे। अभी दीजिए इजाजत, धन्यवाद.

Leave a Comment