skip to content

दावा: बढ़ते कोरोना वायरस के कारण मई में लग सकता है लॉकडाउन

Bihari News

एक बार फिर से पूरी दुनिया समेत भारत में भी कोरोना संक्रमण तेजी से अपने पाँव पसार रहा है. कोरोना के मामले में अचानक यूँ उछाल होने के कारण सबकी चिंता फिर से बढती हीं जा रही है. भला ये कोरोना के मामले में परेशान होना तो लाजमी है. क्योंकि इससे पहले भी जब कोरोना का खतरा हमारे देश पर मंडराया था तो भारत सरकार द्वारा पूरे देश में लॉकडाउन लगा दिए गये थे. हर जगह भयावह स्थिति देखने को मिल रही थी. लेकिन सबसे बुरा हाल तो उन मजदुर वर्ग के लोगों का था जो अपने घर परिवार से दूर किसी दूसरे प्रदेश में काम की तलाश में गये थे. लॉकडाउन जैसी स्थिति में जब पूरा देश रुका था आनेजाने के कोई साधन तक मौजूद नहीं थे, तब यहीं लोग थे जो एक राज्य से दूसरे राज्य तक पैदल हीं चल कर अपने घर जैसेतैसे पहुँच रहे थे. खैर उस वक्त को यदि कोई याद भी कर तो सहम सा जाये. लॉकडाउन के कारण पूरे देश की रुकी अर्थव्यवस्था का असर आज भी ख़त्म नहीं हुआ.

लेकिन यदि क्या हो की ये खबर हमें फिर से देखने को मिले की कोरोना की बढती स्थिति को देख कर एक बार फिर से देश में भारत सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाया जा सकता है. दरअसल इन दिनों ‘Daily Trending News’ नाम के किसी यू ट्यूब चैनल पर कुछ ऐसा हीं दावा किया जा रहा है की.. कोरोना संक्रमण बढ़ने के कारण केंद्र सरकार एक बार फिर से मई के महीने में पूरे देश में लॉकडाउन लगा सकती है. इस विडियो के थंबनेल पर यह भी लिखा था की भारत में काबू से बाहर हुआ कोरोना. इस तरह के सनसनी खेज वाले हेडलाइंस दे कर हर कोई यू ट्यूब पर अपने व्यूज बढ़ाना चाहता है. दरअसल इस यू ट्यूब चैनल पर ऐसा कहा जा रहा है की मई के महीने में रोजाना 15000 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि होगी. साथ हीं साथ इस चैनल पर IIT के प्रोफेसर मनिन्द्र अग्रवाल के स्टडी का हवाला देते हुए बताया गया की कोरोना का कोहराम बढ़ता हीं जा रहा है. और आने वाले दिनों में हर रोज 50 से 60 हजार कोरोना के केस आ सकते हैं. वहां प्रोफेसर अग्रवाल के बारे में यह भी बताया गया की वे पिछले तीन सालों से स्टडी के आधार पर कोरोना की भविष्यवाणी करते हैं वो अब तक सहीं साबित हुई है.

पर हम आपको बता दें की ये बात तो सच है की इन दिनों लगातार कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. लेकिन ये संक्रमण अभी इतना खतरनाक भी नहीं की जानलेवा साबित हो सके. साथ हीं साथ हम आपको बता दें की पिछले 24 घंटे में कुल 7633 कोरोना के नए केस मिले हैं. लेकिन इस संक्रमण से स्वस्थ होने की वर्त्तमान दर 98.68 प्रतिशत है. इसलिए डरने वाली अभी कोई भी बात नहीं. और जहाँ तक की बढ़ते केस के कारण मई में लॉकडाउन लगाने की संभावना इस यू ट्यूब चैनल पर जताई जा रही है तो हम आपको बता दें की आने वाले मई के महीने में ऐसे कोई भी लॉकडाउन की स्थिति नहीं बनने वाली है. ना हीं केंद्र सरकार के तरफ से ऐसी कोई भी संभावना व्यक्त की गयी है. जब इस विडियो की पड़ताल करनी हमने शुरू की तो यह खबर हमें PIB फैक्ट चेक के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी देखने को मिली. वहां भी इस खबर को फर्जी बताया गया. साथ हीं साथ इस बात की सलाह भी दी गयी की ऐसी ख़बरों को आगे साझा करने से बचे.

चुकी पिछले कोरोना के समय में जब लॉकडाउन लगा था तो यह लगभग अधिकत्तर लोगों के लिए बुरा दौर रहा. इसलिए सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे इस तरह के विडियो जहाँ मई के महीने में लॉकडाउन लग सकता है जैसी बात बताई जा रही तो यह लोगों के बीच भयावह स्थिति बना सकते हैं. हम आपको हमेशा बताते हैं की इस तरह के किसी भी खबर पर भरोसा करने से पहले सरकार के आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर चेक करना ना भूलें. वहीँ सबसे हैरानी वाली बात तो यह है की इस चैनल को लगभग 2.63 मिलियन लोग फॉलो कर रहें हैं. साथ हीं मात्र दो दिन पहले हीं पोस्ट हुए इस विडियो को अब तक शायद 23 हजार से भी अधिक लोग देख चुके हैं. जब हजारों लाखों लोग इस तरह के चैनल पर विश्वास कर के उन्हें सब्सक्राइब करते हैं ताकि देशदुनिया में चल रही ख़बरों को जान सकें और वहां उन्हें इस तरह के खबर दिखाए जाते हैं तो अधिक से अधिक लोगों तक भ्रामक ख़बरें फैलती हैं. लेकिन भले हीं संक्रमण से ठीक होने के वर्त्तमान दर अभी अधिक हों पर ध्यान रखें की कोरोना के मामले दिनप्रतिदिन बढ़ते हीं जा रहें हैं. इसलिए अधिक भीड़ वाली जगहों पर जाना, बिना मास्क लगा के घूमना जैसी लापरवाही करने से बचें.

Leave a Comment