skip to content

अंतराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ 1 रन से जीतने वाली टीम

Bihari News

क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में टेस्ट क्रिकेट का अपना ही अलग मजा है। इस प्रारूप में एक खिलाड़ी की कड़ी परीक्षा होती है। हमने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में कई रोचक मुकाबले देखे हैं और कई हैरतअंगेज कारनामे होते देखे हैं। जैसे कभी एक मुकाबले में एक गेंदबाज 10 विकेट झटका देता है तो एक बल्लेबाज दोनों पारियों में शतक लगा देता है। आज के समय में टेस्ट क्रिकेट का कद काफी बढ़ गया है और अक्सर मैदान पर नए रिकॉर्ड बन रहे हैं।

आज हम उन्हें रिकॉर्ड में से एक रिकॉर्ड के बारे में बात करेंगे। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में अब तक मात्र दो बार ही टीम 1 रन से जीत दर्ज कर पाई हैं। चलिए देखते हैं-

1) वेस्टइंडीज बनाम ऑस्ट्रेलिया 1993

टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहली बार जब किसी टीम ने 1 रन से जीत दर्ज की थी, वह सन 1993 में हुआ था। वेस्टइंडीज की टीम ने 1993 में ऑस्ट्रेलियाई टीम को एडिलेड ओवल के मैदान में 1 रन से मात दी थी.

वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में 252 रन बनाए थे जिसमें डेसमंड हेन्स, फिल सिमंस, ब्रायन लारा और जूनियर मरे की पारियां शामिल है। सर कर्टली एम्ब्रोस की बेहतरीन गेंदबाजी और 6 विकेट की बदौलत वेस्टइंडीज ने ऑस्ट्रेलिया को मात्र 213 रन पर समेट दिया और 39 रन की बढ़त हासिल की।

दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया की बेहतरीन गेंदबाजी की बदौलत वेस्टइंडीज की टीम टिक नहीं पाई और मात्र 146 रन पर ऑल आउट हो गई। ऐसे में दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए मात्र 186 रन की जरूरत थी लेकिन उनके 7 विकेट मात्र 74 रन पर गिर गए। इस खराब शुरुआत के बावजूद भी निचले क्रम के बल्लेबाजों ने पारी को संभाला और बचे हुए रन बनाए लेकिन अंत में उनकी टीम को मात्र 1 रन से हार का सामना करना पड़ा।

2) न्यूजीलैंड बनाम इंग्लैंड 2023

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेली जा रही दो मैचों की टेस्ट श्रृंखला के दूसरे मुकाबले में न्यूजीलैंड की टीम ने एक रोमांचक मुकाबले में इंग्लैंड को 1 रन से हराकर इतिहास रच दिया। यह मुकाबला काफी उतार-चढ़ाव वाला रहा। पहली पारी में जो रूठ और हैरी ब्रुक के शतक की बदौलत इंग्लैंड ने 435 रन का विशाल लक्ष्य खड़ा किया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड की टीम स्टूअर्ट ब्रॉड की धारदार गेंदबाजी के आगे टिक नहीं पाए और मात्र 209 रन पर ऑल आउट हो गई। ऐसे में इंग्लैंड के कप्तान स्टोक्स ने फॉलोऑन का न्योता न्यूजीलैंड को दिया।

हर किसी को लग रहा था कि यह मुकाबला इंग्लैंड आसानी से जीत लेगी लेकिन न्यूजीलैंड की टीम कहां हार मानने वालों में से है. केन विलियमसन के बेहतरीन शतक और टॉम लैथम, डेवोन कॉनवे, डेरिल मिशेल और टॉम ब्लंडेल की शानदार पारियों की बदौलत न्यूजीलैंड ने 483 रन दूसरी पारी में बनाए। इंग्लैंड को सीरीज क्लीन स्वीप करने के लिए 258 रन की जरूरत थी। दूसरी पारी में न्यूजीलैंड के गेंदबाजों ने शानदार शुरुआत की और इंग्लैंड के 5 बल्लेबाजों को मात्र 80 रन पर आउट कर दिया। इसके बाद कप्तान बेन स्टोक्स और जो रूट की 121 रन की शानदार शतकीय पारी की बदौलत इंग्लैंड एक बार फिर मैच में आगे हो गई।

नील वैगनर ने इन दोनों सेट बल्लेबाजों को आउट कर दिया और फिर इंग्लैंड की टीम रन नहीं जोड़ पाई और 256 रन पर ऑल आउट हो गई। और इस तरीके से न्यूजीलैंड ने 1 रन से मुकाबला जीत लिया।

Leave a Comment