skip to content

10 दमदार खिलाड़ी, जो अपने पूरे IPL करियर में सिर्फ एक ही टीम से खेले

Bihari News

दोस्तों, देश में इस वक्त क्रिकेट का त्योहार चल रहा है क्योंकि इंडियन प्रीमियर लीग यानी IPL खेली जा रही है. आईपीएल सिर्फ भारत की ही नहीं बल्कि समूचे विश्व की सबसे बड़ी और लोकप्रिय टी20 लीग है. इसमें भारत के स्टार और युवा खिलाड़ी तो खेलते ही हैं साथ ही सर्वश्रेष्ठ विदेशी खिलाड़ी भी इस लीग में अपना जौहर दिखाते हैं.
कई क्रिकेटर एक ही टीम से खेलते हैं तो कुछ हर साल अपनी टीम बदल लेते हैं. कईयों को एक टीम से लंबे समय तक खेलने में कठिनाई होती है या यूं कहें तो उन्हें एक ही टीम से लंबे समय तक खेलना रास नहीं आता. इसलिए एक या दो सीजन के बाद वो अपनी टीम बदल लेते हैं. लेकिन कुछ ऐसे भी खिलाड़ी हुए, जो अपने पूरे करियर में एक ही टीम से खेले. इस लेख में हम आपको IPL के ऐसे 10 धाकड़ खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो अपने पूरे करियर में सिर्फ एक ही टीम के होकर रह गए.

1. Shane Warne

2008 में इंडियन प्रीमियर लीग की शुरुआत हुई थी, यह IPL का पहला सीजन था. IPL के पहले सीजन की चैंपियन राजस्थान रॉयल्स की टीम बनी थी. इस टीम के कप्तान ऑस्ट्रेलिया के महान स्पिनर शेन वार्न थे. शेन वार्न की अगुवाई वाली टीम को लोग हल्के में ले रहे थे लेकिन ट्रॉफी जीतकर उन्होंने सबको चौंका दिया और सबकी बोलती भी बंद कर दी. दिग्गज स्पिनर ने ना सिर्फ अपनी फिरकी पर बल्लेबाजों को नचाया बल्कि जबरदस्त प्रतिभाओं को पहचाना और तराशा. वो जब तक IPL खेले, राजस्थान के लिए ही खेले. शेन वार्न ने 2008 से 2011 तक राजस्थान रॉयल्स के लिए 55 मैचों में 57 विकेट चटकाए और 198 रन भी बनाए.

2. Sachin Tendulkar

इस लिस्ट में दूसरा नाम भी एक महान खिलाड़ी का है. जैसा कि इस तरह के कद के क्रिकेटिंग दिग्गज की उम्मीद की जा सकती है, सचिन तेंदुलकर ने अपना पूरा आईपीएल करियर सिर्फ एक फ्रेंचाइजी के लिए खेलते हुए बिताया. मास्टर ब्लास्टर अपनी लोकल टीम मुंबई इंडियन्स के लिए करीब 6 सालों तक खेला. वो कई मौकों पर टीम के लीडिंग रन-स्कोरर रहे और अपनी कप्तानी में उन्होंने टीम को साल 2010 में फाइनल में भी पहुंचाया था. गौरतलब है कि मास्टर बल्लेबाज ने 2011 सीजन में एक शतक भी लगाया था, जिसने फैंस को एक यादगार अनुभव दिया. सचिन तेंदुलकर ने 2008 से 2013 तक मुंबई इंडियन्स के लिए 78 आईपीएल मुकाबले खेले, जिसमें उन्होंने 2334 रन बनाए, इस दौरान उनके बल्ले से 1 शतक और 13 अर्द्धशतक आए.

3. Shaun Marsh

बाएं हाथ के ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज शौन मार्श को पहले ऑक्शन में अच्छे दाम में खरीदा गया था वो मार्श ने अपनी जबरदस्त बल्लेबाजी क्षमता से सबको हैरान कर दिया था और अपनी बल्लेबाजी से उन्होंने अपनी टीम को सेमीफाइनल तक पहुंचाया था. आईपीएल के पहले एडिशन में मार्श टूर्नामेंट के सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बने थे और ऑरेंज कैप जीता था और इसी चलते वो 10 सालों तक किंग्स 11 पंजाब का हिस्सा रहे. पंजाब के ओनर्स को 2018 ऑक्शन में कुछ कठिनाई हुई और उन्होंने अपने सबसे वफादार खिलाड़ी शौन मार्श को टीम से रिलीज़ कर दिया और ऑक्शन में उन्हें कोई खरीददार नहीं मिला और इस तरह अपने पूरे आईपीएल करियर में वो सिर्फ पंजाब की तरफ से ही खेले. शौन मार्श ने 71 मैचों के अपने आईपीएल करियर में 132.74 की स्ट्राइक रेट से 2477 रन बनाए, इस दौरान उन्होंने 1 शतक और 20 अर्द्धशतक जमाए.

4. Lasith Malinga

लसिथ मलिंगा, दिग्गज तेज गेंदबाज, खतरनाक तेज गेंदबाज, ‘योर्कर किंग’ जब तक खेले मुंबई के लिए ही खेले. मुंबई ने उन्हें कहीं जाने नहीं दिया. वह टूर्नामेंट के सबसे बेहतरीन गेंदबाज बनकर उभरे. जनवरी, 2021 में उन्होंने फ्रेंचाइजी क्रिकेट से संन्यास लिया लेकिन तब तक वो सिर्फ और सिर्फ मुंबई इंडियन्स के ही होकर रहे. लसिथ मलिंगा ने 122 मैचों में 170 विकेट झटके, 13 रन देकर 5 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा. चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ 18 अप्रैल, 2009 को उन्होंने अपना आईपीएल डेब्यू किया था और 12 मई, 2019 को चेन्नई के खिलाफ ही उन्होंने अपना आखिरी आईपीएल मुकाबला खेला था.

5. Kieron Pollard

यहां एक और मुंबई इंडियन्स का खिलाड़ी है, काइरोन पोलार्ड. पोलार्ड भी आईपीएल में जब तक खेले मुंबई के लिए ही खेले. 2010 से वो मुंबई की टीम का अहम हिस्सा रहे और मैदान पर अपने दोमिनेटिंग परफॉरमेंस से मुंबई को कई मुकाबले जितवाए. वो 2010 से 2022 तक मुंबई इंडियन्स के लिए खेले, जो अपने आप में एक बड़ा रिकॉर्ड है. पोलार्ड के आईपीएल करियर को देखें तो उन्होंने 189 मैचों में 147.32 की स्ट्राइक रेट से 3412 रन बनाए, इस दौरान उनके बल्ले से 16 अर्द्धशतक निकले वहीं इस दौरान गेंद से भी कमाल करते हुए उन्होंने 69 विकेट चटकाए.
दिलचस्प बात ये है कि पोलार्ड अभी भी मुंबई इंडियन्स का हिस्सा हैं लेकिन अब वो खेलते नहीं बल्कि सपोर्ट स्टाफ के रूप में मुंबई की टीम के साथ काम कर रहे हैं.

6. Sunil Narine

वेस्टइंडीज का यह दिग्गज स्पिनर 2012 से अभी तक आईपीएल टीम कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा हैं. मिस्ट्री स्पिनर सुनील नरेन का नाम टूर्नामेंट के इतिहास में सबसे ज्यादा विकेट टेकर्स की सूचि में छठे नंबर पर है. गौतम गंभीर की कप्तानी में KKR 2012 और 2014 में चैंपियन बनी थी और उसमें सुनील नरेन का बहुत बड़ा योगदान रहा था. 2012 से लेकर अभी तक नरेन कोलकाता के प्राइम प्लेयर बने हुए हैं, जो टीम के लिए हर मैच में बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं. 8 अप्रैल, 2012 को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ अपना आईपीएल डेब्यू करने वाले सुनील नरेन ने अबतक 151 मैचों में 158 विकेट चटकाए हैं. जहां 19 रन पर 5 विकेट उनका बेस्ट रहा है. सुनील नरेन ने बल्ले से भी KKR की काफी मदद की है. उन्होंने 151 मैचों की 89 पारियों में 162.78 की स्ट्राइक रेट से 1032 रन बनाए हैं. नरेन के बल्ले से इस दौरान 4 अर्द्धशतक भी निकले हैं. यही नहीं नरेन के नाम आईपीएल में सबसे तेज अर्द्धशतक लगाने का रिकॉर्ड भी दर्ज है. वो इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं. सुनील नरेन ने 2017 में RCB के खिलाफ बेंगलुरु में 15 गेंदों पर अर्द्धशतक जड़ा था.

7. Virat Kohli

विराट कोहली, स्टार बल्लेबाज, दिग्गज बल्लेबाज, जिनका नाम आईपीएल के इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों में शुमार है, 2008 से अभी तक आईपीएल की एक ही टीम का हिस्सा रहे हैं. 18 अप्रैल, 2008 को KKR के खिलाफ उन्होंने अपना आईपीएल डेब्यू किया था, तब से लेकर आज तक कोहली एक ही टीम के होकर हैं और आगे भी रहेंगे. विराट कोहली का कहना है कि जब तक वो आईपीएल खेलेंगे, RCB के लिए ही खेलेंगे.
विराट कोहली ने अबतक 226 आईपीएल मैचों की 218 पारियों में 129.54 की स्ट्राइक रेट से 6788 रन बनाए हैं. इस दौरान उनके बल्ले से 5 शतक और 46 अर्द्धशतक निकले हैं. कोहली के नाम आईपीएल में 4 विकेट भी दर्ज हैं.

8. Jasprit Bumrah

जसप्रीत बुमराह वाइट बॉल क्रिकेट के शायद सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज भी इस लिस्ट में शामिल हैं. वो सिर्फ एक ही टीम मुंबई इंडियन्स के लिए खेले. बुमराह टी20 क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज हैं, किसी भी टीम और कप्तान के पास बुमराह का होना बेहद सौभाग्य की बात होती है. बुमराह ने अपनी धारदार गेंदबाजी से मुंबई को कई मुकाबलों में जीत दिलाई है. इस सीजन बुमराह की अनुपस्थिति मुंबई की टीम को बुरी तरह खल रही है क्योंकि बुमराह पीठ की इंजरी के चलते टूर्नामेंट से बाहर हैं. जसप्रीत बुमराह ने 4 अप्रैल, 2013 को RCB के खिलाफ अपना आईपीएल डेब्यू किया था. अभी तक उन्होंने 120 मैचों में 145 विकेट हासिल किए हैं. 10 रन देकर 5 विकेट उनका बेस्ट फिगर रहा है.

9. Prithvi Shaw

भारत को अंडर-19 वर्ल्ड कप जिताने वाले कप्तान, प्रतिभाशाली सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ भी उन चुनिंदा खिलाड़ियों में से हैं, जिन्होंने सिर्फ 1 ही टीम का दामन थामे रखा है. पृथ्वी जब से आईपीएल खेल रहे हैं दिल्ली की टीम का ही हिस्सा हैं. उन्होंने 23 अप्रैल, 2018 को पंजाब के खिलाफ दिल्ली की तरफ से खेलते हुए अपना आईपीएल डेब्यू किया था और तब से लेकर अभी तक वो दिल्ली की टीम का ही हिस्सा हैं. पृथ्वी शॉ ने अब तक 66 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 146.89 की स्ट्राइक रेट से 1607 रन बनाए हैं, इस दौरान उन्होंने 12 अर्धशतकीय पारियां खेली हैं.

10. Rishabh Pant

2012 में अपने आईपीएल डेब्यू के बाद से अभी तक 98 मैचों में ऋषभ पंत ने दिल्ली कैपिटल्स के लिए 2500 से ज्यादा रन बनाए हैं. वो दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान हैं लेकिन इस सीजन नहीं खेल रहे हैं. दरअसल पंत का एक भीषण सड़क हादसा हो गया था, वो बाल-बाल बच गए लेकिन उनको गंभीर चोट आई. पूरी तरह से ठीक होने में शायद उन्हें और वक्त लगे लेकिन दिल्ली को पंत की कमी खल रही है. उनकी अनुपस्थिति में दिल्ली की टीम ने डेविड वार्नर को अपना कप्तान नियुक्त किया है. ऋषभ पंत ने अबतक 98 मैचों की 97 पारियों में 15 बार नॉटआउट रहते हुए 147.97 की स्ट्राइक रेट से 2838 रन बनाए हैं. इस दौरान धांसू विकेटकीपर-बल्लेबाज ने 1 शतक और 15 अर्धशतक जमाए हैं.

तो ये थे वो 10 धाकड़ खिलाड़ी जो आईपीएल में एक ही टीम के होकर रहे हैं, अगर आपके नजर में कोई और ऐसा खिलाड़ी है, जिसका नाम इस लिस्ट में शामिल किया जाना चाहिए, कमेंट में जरुर बताएं.

Leave a Comment