Placeholder canvas

720 डिग्री से बल्लेबाजी करने वाले सूर्या की अनसुनी कहानी

Bihari News

आज की कहानी एक होनहार और प्रतिभाशाली खिलाड़ी के बारे में, जिसने कड़ी मेहनत कर हासिल किया वो मुकाम, जिसके लिए तरसते हैं विश्व भर के दिग्गज बल्लेबाज. आज की कहानी भारत के स्टार बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव के बारे में. इस लेख में हम आपको सूर्यकुमार यादव के जीवन से जुड़े कुछ दिलचस्प बातें बताएंगे.

सूर्यकुमार यादव का जन्म 14 सितंबर, 1990 को उत्तरप्रदेश के गाजीपुर में हुआ है. लेकिन उनके पिता अशोक यादव की नौकरी भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर, मुंबई में लगी और सूर्या भी परिवार के साथ मुंबई आ गए. क्रिकेट से तो बेपनाह मोहब्बत थी ही, बस मुंबई की गलियों में खेलने लगे, फिर उनके चाचा ने उनका दाखिला दिलीप वेंगसरकर की क्रिकेट अकैडमी में कराया.

फिर आया साल 2010, जब सूर्या ने अपना फर्स्ट क्लास डेब्यू किया और पहले ही मैच में दिल्ली के खिलाफ 89 गेंदों में 15 बाउंड्री लगाकर 73 रनों की पारी खेल डाली. सूर्या ने अपने पहले 11 फर्स्ट क्लास मैच में 1000 रन बना डाले और इसलिए उनको अंडर-22 लेवल का बेस्ट क्रिकेटर चुना गया और उनको MA Chidambaram trophy से नवाजा गया. मुंबई के लिए खेलते हुए अगले ही रणजी सीजन में सूर्या ने ओडिशा के खिलाफ दोहरा शतक जड़ दिया, जिसके बाद आईपीएल टीम मुंबई इंडियन्स की नजर उनपर पड़ी. साल 2012 में सूर्या को मुंबई इंडियन्स ने ख़रीदा लेकिन उनका पहला आईपीएल सीजन निराशाजनक रहा. अपने पहले मैच में सूर्या चौथी गेंद पर ही 0 पर आउट हो गए. आईपीएल डेब्यू करने से 1 साल पहले सूर्या चैंपियंस लीग खेल चुके थे और वहां चैंपियन बने थे.

इसके बाद आया साल 2014, जब वो कोलकाता की टीम में शामिल हुए, जहां गौतम गंभीर ने उनके हुनर को पहचाना और सूर्यकुमार यादव को स्काई नाम दे दिया. इसका खुलासा खुद सूर्या ने किया है. उन्होंने कहा कि जब वो आईपीएल में KKR से जुड़े थे तो गंभीर ने उन्हें एक बार पीछे से स्काई पुकारा. गंभीर ने 2-3 बार सूर्या को चिल्लाया, सूर्या ने जब पीछे मुड़कर नहीं देखा तो गंभीर ने उनसे कहा आप ही से कह रहा हूं. इसके बाद से टीम के अन्य खिलाड़ी भी सूर्यकुमार यादव को स्काई कहने लगे, और उनका नाम स्काई पड़ गया. वो कोलकाता की टीम में गौतम गंभीर के डेप्युटी बने.

सूर्या 3 सालों तक KKR से जुड़े रहे और बेहतरीन प्रदर्शन किया इसके बाद उन्हें साल 2018 में मुंबई इंडियन्स ने ख़रीदा और इसके बाद से वो मुंबई की टीम के अभिन्न अंग बन गए. मुंबई के लिए खेलते हुए सूर्या के साथ घटी एक घटना ने पूरी दुनिया का ध्यान खींचा. और यह सूर्या के लिए लाइफ-चेंजिंग मैच साबित हुआ. 28 अक्टूबर, 2020 को RCB के खिलाफ मैच में सूर्या और विराट के बीच एक अनोखी बात घटी. दरअसल वो दोनों टीमों के लिए काफी अहम मैच था और सूर्या बल्लेबाजी कर रहे थे. सूर्या बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे थे और RCB उनका विकेट किसी कीमत पर चाह रही थी इसलिए RCB के कप्तान विराट कोहली बार-बार उन्हें स्लेज कर रहे थे. एक वक्त ऐसा आया जब सूर्या स्थिर खड़े हो गए और कोहली को घूरने लगे. कोहली भी सूर्या की तरफ बिना कुछ बोले बढ़ने लगे और इसने खूब सुर्खियाँ बटोरी. सूर्या ने भी बाद में इस घटना का जिक्र करते हुए कहा था कि वो उस वक्त काफी डर गए थे जब विराट कोहली उनको घूरते हुए आगे बढ़ रहे थे. सूर्या ने उस मैच में नाबाद 79 रन बनाकर मुंबई इंडियन्स को जीत दिलाई. मुंबई के लिए लगातार उम्दा प्रदर्शन करने वाले सूर्या ने भारतीय चयनकर्ताओं का भी ध्यान खीचा और 14 मार्च, 2021 को इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज के चौथे मैच में उन्हें डेब्यू का मौका मिला.

सूर्या ने अपने करियर की पहली इंटरनेशनल गेंद पर इंग्लैंड के धाकड़ गेंदबाज जोफ्रा आर्चर को छक्का लगा दिया. ऐसा करके सूर्या ने अपना नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज कर लिया. अपने पहले ही इंटरनेशनल गेंद पर छक्का लगाने वाले सूर्यकुमार यादव भारत के पहले खिलाड़ी बने.

अपने डेब्यू मैच में सूर्या ने अर्धशतक ठोककर पूरी दुनिया को बता दिया कि वो एक लंबे रेस के घोड़े हैं.

जुलाई, 2021 में सूर्यकुमार यादव ने श्रीलंका के खिलाफ अपने करियर का पहला वनडे मैच खेला और इस मैच में भी उन्होंने पचासा जड़ा.

सूर्या के टी20 करियर को देखें तो उनका स्ट्राइक रेट फोर्थ-हाईएस्ट है.

फिर आया जुलाई, 2022 जब भारतीय टीम ने इंग्लैंड का दौरा किया. सूर्या ने सीरीज के तीसरे और अंतिम टी20आई मैच में 55 गेंदों में 117 रनों की तूफानी पारी खेल डाली.
सूर्या पांचवें खिलाड़ी हैं, जिन्होंने टी20 इंटरनेशनल में शतक जड़ा हो और नंबर-4 या उससे नीचे बल्लेबाजी करते हुए शतक लगाने दूसरे बल्लेबाज हैं.

सूर्या इस वक्त नई उचाईयों को छू रहे हैं. वो ICC टी20 रैंकिंग में फ़िलहाल नंबर-2 पर हैं और अगर ऐसे ही बल्लेबाजी करते रहे तो बहुत जल्द नंबर-1 बन जाएंगे. इसके अलावा एक कैलेंडर इयर में वो सबसे अधिक टी20आई रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं. उन्होंने बाएं हाथ के दिग्गज बल्लेबाज शिखर धवन को पीछे छोड़ा है. सूर्यकुमार यादव ने इस कैलेंडर इयर में यानी साल 2022 में अब तक 732 रन बना लिए हैं. शिखर धवन ने साल 2018 में क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में 689 रन बनाए थे. सूर्या के रिकॉर्ड की खास बात ये है कि इस प्रतिभाशाली बल्लेबाज ने ये रन 40 की औसत और 180 की ज्यादा की स्ट्राइक रेट से बनाए हैं.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के पहले टी20आई मुकाबले में मुश्किल पिच पर कप्तान रोहित और विराट कोहली के जल्दी आउट हो जाने के बाद नंबर- 4 पर बल्लेबाजी करने उतरे सूर्यकुमार यादव ने अपने शुरुआत के 3 गेंदों में 2 छक्के लगा दिए. यहीं से भारत के चेज का मोमेंटम बदला. सूर्या 30 गेंदों में नाबाद 50 रन पर भारत को जीत दिलाकर लौटे.

सूर्या के उन 2 छक्कों से पाकिस्तान के Mohammad Rizwan का रिकॉर्ड टूट गया. साल 2021 में पाकिस्तानी बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने 26 पारियों में 42 छक्के लगाए थे. सूर्या ने रिजवान से 5 पारियां कम ली.

अब आगे टी20 विश्व कप है, जो 16 अक्टूबर से ऑस्ट्रेलिया में शुरू हो रहा है. और सूर्या के फॉर्म को देखकर हमें बड़ा सुकून मिल रहा है. कमेंट करके बताएं कि आगामी टी20 वर्ल्ड कप में सूर्यकुमार यादव अपने फॉर्म को बरकरार रख पाएंगे या नहीं ?

Leave a Comment