skip to content

बिहार में स्लोगन वार, RJD ने लिखा तेजस्वी बिहार JDU का शिक्षित कुमार

Bihari News

बिहार में जारी सियासी घमासान के बीच में अब महागठबंधन में भी आपसी विवाद शुरू हो गया है. बता दें कि बिहार में जदयू और राजद के नेता एक दूसरे पर हमलावर हैं. शिक्षा मंत्री के रामचरित मानस के बयान सामने आने के बाद से लगातार बिहार में बयानबाजी शुरू हो गई है. अब तो नीतीशकुमार ने भी स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि हमलोग सभी धर्म को मानते हैं. ऐसे में अब बिहार की सियासत में पूरी तरह से घालमेल देखने को मिल रहा है. इससे पहले विपक्ष राजद पर हमलावर था लेकिन अब जदयू भी राजद पर आरोप लगा रही है. इधर बिहार के शिक्षा मंत्री प्रो. चंद्रशेखर ने एक ट्वीट किया है जिसके बाद से सियासत मे और भी गरमाहट देखने को मिल रही है. जिसके बाद से जदयू के MLC नीरज कुमार ने भी ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

शिक्षा मंत्री ने जो ट्वीट किया है उसमें उन्होंने लिखा है कि बुनियादी संसाधन उचित पाठन शिक्षित बिहार, तेजस्वी बिहार ! इसके बाद उन्होंने एक ट्वीट और किया है जिसमें उन्होंने लिखा है कि उन्नत शिक्षा-शैक्षणिक सुधार, हमारा संकल्प,-यशस्वी बिहार! इस ट्वीट के कई मायने और मतलब निकाले जा रहे हैं. बता दें कि शिक्षा मंत्री के तेजस्वी बिहार वाले बयान पर लगातार विवाद देखने को मिल रहा है. तेजस्वी बिहार को लेकर जदयू के नेताओं का विरोध है. खैर शिक्षा मंत्री के इस बयान के बाद से जदयू की तरफ से भी प्रतिक्रिया सामने आ गई है. जिसमें नीरज कुमार ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि बिहार के शिक्षा बजट आंकड़ों के जरिये सामने रखा है. जिसमें उन्होंने दो ग्राफ के माध्यम से यह दिखाया है कि साल 2003-04 में शिक्षा का बजट 3.74 था जबकि 2021-22 में अब 19.3 प्रतिशत हो गया है. आपको बता दें कि साल 2003-4 में राजद की सरकार थी और उस समय बिहार के मुख्यमंत्री राबड़ी देवी हुआ करती थी.

राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा हो रही है कि शिक्षा मंत्री के उस बयान के जवाब में नीरज कुमार ने ट्वीट किया है. हालांकि आने वाले समय में यह स्पष्ट हो पाएगा कि कौन किसपर निशाना साधकर ट्वीट कर रहा है. लेकिन इन ट्वीट और राजनीतिक बयानों के बाद से बिहार में माहौल पूरी तरह से गरमा गया है. राजद और जदयू के बीच में बयानबाजी शुरू होने से इन दोनों ही पार्टियों के बीच में खटास आने की संभावना हो सकती है. हालांकि नीतीश कुमार ने अपने बयान में साफ साफ कहा है कि जिनको जो सोचना है वे सोचे महागठबंधन मजबूत है साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि हमलोग सभी धर्म को मानने वाले हैं.

दरअसल आपको बता दें कि शिक्षा मंत्री के रामचरित मानस वाले बयान के बाद से बिहार में सियासी पारा चढ़ता ही जा रहा है. उपेंद्र कुशवाहा के साथ ही बिहार जदयू के कई नेताओं ने शिक्षा मंत्री को इस तरह के बयान से बचने की सलाह दी है. हालांकि उपेंद्र कुशवाहा ने साफ तौर पर कहा है कि शिक्षा मंत्री बीजेपी की पीच पर जाकर बल्लेबाजी कर रहे हैं.

Leave a Comment