skip to content

वन्दे भारत एक्सप्रेस की सौगात, पटना-गया से हावड़ा जाने वाले को होगा फायदा

Bihari News

बिहार में रेल से यात्रा करने वाले यात्रियों को केन्द्रीय बजट में एक बड़ा तोहफा मिला है. बिहार के अलगअलग स्टेशनो से दो वन्दे भारत ट्रेन बजट के प्रावधानों के अनुसार गुजरेंगी. बता दें की एक वन्दे भारत एक्सप्रेस पटना से हावड़ा रूट पर चलाई जाएगी. साथ हीं साथ दूसरी वन्दे भारत ट्रेन को वाराणसी से गया के रास्ते हावड़ा के लिए चलाया जाना है. इन ट्रेनों में कई सुविधाओं को बढ़ाया जाना है और यह ट्रेन तेजस राजधानी एक्सप्रेस से भी अधिक गति के साथ चलेगी. इन ट्रेनों के कोचों की उत्पादकता में स्वदेशी तकनीक के द्वारा आने वाले दिनों में तेजी आएगी. इस बात की जानकारी मीडिया में चल रही ख़बरों के मुताबिक रेलवे बोर्ड के सूत्रों द्वारा मिली है. बता दें की आने वाले दिनों में विभिन्न रूटों पर इसका विस्तार किया जा सकता है. ऐसा माना जा रहा है की आने वाले समय में तेजस राजधानी एक्सप्रेस जैसे ट्रेन को भी वन्दे भारत ट्रेन में तब्दील करने की तैयारी हो सकती है. अभी जर्मन की तकनीक से तेजस राजधानी ट्रेन और दूसरे ट्रेनों की बोगियां बनी हुई हैं. इन्हें LHB रैक भी कहा जाता है. लेकिन वन्दे भारत ट्रेन स्वदेशी तकनीकों से बनायी जाएंगी. यह बोगियां स्वदेशी होने के साथसाथ इनके उत्पादन में भी कम लागत आएगी. ऐसे में वन्दे भारत ट्रेनों की संख्या भी धीरेधीरे पूर्वं मध्य रेलवे सहित अन्य जोन के स्टेशनो पर बढ़ा दी जाएंगी.

अभी तक पूरे देश में 8 वन्दे भारत ट्रेनों का संचालन हो रहा है. जिसमे बिहार से होकर हावड़ा से जलपाईगुड़ी के बीच चलने वाली वन्दे भारत एक्सप्रेस गुजर चूकी है. इसका ठहराव राज्य में कटिहार जिले के बारसोई स्टेशन पर है. लिहाजा सीमांचल में रेल से यात्रा करने वाले यात्रियों को इसका फायदा मिल रहा है. बिहार के अन्य हिस्सों को भी हाईस्पीड ट्रेन की सुविधा मिलेगी, जब वाराणसी और पटना से हावड़ा के लिए वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन की शुरुआत होगी. इसके अलावे यह ट्रेन दिल्ली से वाराणसी के बीच भी चलाई जा चुकी है. साल 2019 में देश की पहली वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन दिल्ली से वाराणसी के बीच हीं शुरू हुई थी. फिर दिल्ली से कटरा के बीच भी वन्दे भारत ट्रेन संचालन हो चूका है. यह ट्रेन दिल्ली से कटरा माता वैष्णो देवी के बीच चलाई गयी. तीसरी वन्दे भारत ट्रेन मुंबई सेंट्रल से गांधीनगर चलाई गयी. जो की मुंबई सेंट्रल से चल कर सूरत, वड़ोदरा और अहमदाबाद होते हुए गांधीनगर तक पहुँचती है. वहीँ चौथी ट्रेन ऊना से चंडीगढ़ के लिए चलायी गयी. जो की हिमाचल के ऊना से चंडीगढ़ होते हुए नयी दिल्ली को पहुँचती है. फिर अगली वन्दे भारत एक्सप्रेस चेन्नई से मैसूर के बीच शुरू की गयी. यह भारत की पांचवी वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन थी. अब आखिरी में हम बात करते हैं नागपुर से बिलासपुर चलने वाली वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन की. यह ट्रेन महाराष्ट्र में नागपुर से छतीसगढ़ के बिलासपुर के बीच चलती है.

आइये अब अपने इस चर्चा के बीच हम जानते हैं वन्दे भारत ट्रेन की खासियत को. दरअसल यह ट्रेन भारत की सबसे तेज दौड़ने वाली ट्रेनों में से एक है. क्योंकि यह 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार को महज 52 सेकंड में हीं पकड़ लेती है. इस ट्रेन के चेयर को 180 डिग्री तक रोटेट किया जा सकता है. वैक्यूम आधारित टॉयलेट, जीपीएस आधारित इनफार्मेशन सिस्टम,सीसीटीवी कैमरे जैसी सुविधा इस ट्रेन में आपको देखने को मिलेंगी. साथ हीं साथ ट्रेन में सुरक्षा कवच के साथसाथ पॉवर बैकअप का भी इन्तेजाम है. इसके अलावे इसमें दो ऐसे कोच को भी तैयार किये गये हैं जहाँ से पूरे ट्रेन पर नज़र रखी जा सकती है. सफ़र के दौरान इसमें यात्रियों के सुरक्षा का भी पूरा ध्यान रखा गया है. ट्रेन में पुश बटन स्टॉप की भी सुविधा दी गयी है. जिससे आपात की स्थिति में एक बटन को दबा कर ट्रेन को रोका जा सकता है.

Leave a Comment